Dekh Kabira Roya (देख कबीरा रोया)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


मेरी दृष्टि में तो भारत के विचार की शक्ति खो गई है; भारत के पास विचार की ऊर्जा नष्ट हो गई है। भारत ने हजारों साल से सोचना बंद कर दिया है। भारत सोचता ही नहीं है। यह इतना बड़ा पत्थर भारत के प्राणों पर है कि अगर कुछ हजार लोग अपने सारे जीवन को लगा कर इस पत्थर को हटा दें, तो भारत का जितना हित हो सकता है, उतना ये तथाकथित रचनात्मक कहे जाने वाले कामों से नहीं।... समाज को बदले बिना सारे रचनात्मक काम पुराने समाज को बचाने वाले, टिकाने वाले सिद्ध होते हैं। समाज की जीवन-व्यवस्था में आमूल-रूपांतरण न हो, तो समाज में चलने वाली सेवा, समाज में चलने वाला रचनात्मक आंदोलन पुराने समाज के मकान में ही पलस्तर बदलने, रंग-रोगन करने, खिड़की-दरवाजों को पोतने वाला सिद्ध होता है। नहीं, आज समाज को रचनात्मक काम की नहीं, विध्वंसात्मक काम की जरूरत है; आज समाज को कंस्ट्रक्शन की नहीं, एक बहुत बड़े डिस्ट्रक्शन की जरूरत है। आज समाज के पास इतना कचरा, इतना कूड़ा है हजारों साल का कि उसमें आग देने की जरूरत है। इस वक्त जो लोग हिम्मत करके विध्वंस करने को राजी हैं, वे ही लोग एकमात्र रचनात्मक काम कर रहे हैं। यह समाज जाए, यह सड़ा-गला समाज नष्ट हो, इसके लिए सब-कुछ किया जाना आज जरूरी है।
notes
This title serves as the title both of a three-volume series and of the last and largest of the three volumes, arranged thusly:
It is also the title of a 1957 Bollywood romantic comedy.
It is not known whether any of Dekh's component volumes have been published separately except Aswikriti, which has been published on its own in recent enough times to survive in Diamond Books' catalogue (as of Aug 2014). The whole thing was published in 1988, possibly on other occasions as well. See discussion for a TOC and more. All of the greater Dekh's discourses are available in audio form, excepting five: 7 and 8 from Aswikriti and 26, 28 and 29.
Chapter 21 has probably been translated as Where Are the Gandhians?, see it's discussion.
Later the publisher Diamond Pocket Books published most of 30 chapters as four books:
time period of Osho's original talks/writings
likely late 60s : timeline
number of discourses/chapters
19 (single vol), 30 (all three)


editions

Dekh Kabira Roya 1979 cover.jpg

Dekh Kabira Roya (देख कबीरा रोया)

Year of publication : Nov 1979
Publisher : Rajneesh Foundation
Edition no. : 1
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes : Missing dust jacket ?

Dekh Kabira Roya cover.jpg

Dekh Kabira Roya (देख कबीरा रोया)

Year of publication : Sep 1988
Publisher : Tao Publishing Pvt Ltd
Edition no. :
ISBN
Number of pages : ~464
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes : editing: Sw Anand Maitreya, Sw Anand Satyarthi
compilation: Sw Yoga Pratap Bharati, Ma Yoga Shukla
design: Ma Prem Prarthana
co-ordination: Sw Yoga Amit
phototypesetting: Photon Graphics Pvt Ltd, Poona
printing: Studio Ritam, Lower Parel, Bombay
publisher: Tao Publishing Pvt Ltd, 50 Koregaon Park, Poona 411001
copyright: Tao Publishing Pvt Ltd, Poona
all rights reserved
special deluxe edition September 1988, 3000 copies