Dharm Ki Yatra (धर्म की यात्रा)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


विचार एक दिशा है। विचार से कोई पंडित हो सकता है, प्रज्ञा को उपलब्ध नहीं। ध्यान एक दशा है, ध्यान एक दिशा है। ध्यान से कोई विचार को उपलब्ध नहीं होता, लेकिन प्रज्ञा को और ज्ञान को उपलब्ध होता है। इस समय सारी दुनिया और सारी मनुष्य-जाति विचार से पीड़ित है।
notes
Osho responds to seekers' questions, available apparently only in audio. See discussion for a sort of a partial TOC (nine audiobook discourse titles).
time period of Osho's original talks/writings
late 60s? : timeline
number of discourses/chapters
10


editions