Kano Suni So Jhooth Sab (कानों सुनी सो झूठ सब)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search

Also known as Kanon Suni So Jhooth Sab (कानों सुनी सो झूठ सब)


‘संत दरिया प्रेम की बात करेंगे। उन्होंने प्रेम से जाना। इसके पहले कि हम उनके वचनों में उतरें...अनूठे वचन हैं ये। और वचन हैं बिलकुल गैर-पढ़े लिखे आदमी के। दरिया को शब्द तो आता ही नहीं था; अति गरीब घर में पैदा हुए—धुनिया थे, मुसलमान थे। लेकिन बचपन से ही एक ही धुन थी कि कैसे प्रभु का रस बरसे, कैसे प्रार्थना पके। बहुत द्वार खटखटाए, न मालूम कितने मौलवियों, न मालूम कितने पंडितों के द्वार पर गए लेकिन सबको छूंछे पाया। वहां बात तो बहुत थी, लेकिन दरिया जो खोज रहे थे, उसका कोई भी पता न था। वहां सिद्धांत बहुत थे, शास्त्र बहुत थे, लेकिन दरिया को शास्त्र और सिद्धांत से कुछ लेना न था। वे तो उन आंखों की तलाश में थे जो परमात्मा की बन गई हों। वे तो उस हृदय की खोज में थे, जिसमें परमात्मा का सागर लहराने लगा हो। वे तो उस आदमी की छाया में बैठना चाहते थे जिसके रोएं-रोएं में प्रेम का झरना बह रहा हो। सो, बहुत द्वार खटखटाए लेकिन खाली हाथ लौटे। पर एक जगह गुरु से मिलन हो ही गया।’ - ओशो
notes
Osho is said to have spoken on two different Indian poet-mystics named Dariya. This book, Kano Suni, is said to be about the Rajasthani Dariya born in 1676 in Marwar. Very little is known about him. Osho also talked about him in Ami Jharat, Bigsat Kanwal (अमी झरत, बिगसत कंवल), about a year and a half later.
The "other" Dariya, a major 18th c Bihari poet and mystic aka Dariyadas, Sant Dariya Saheb, etc, is said to have composed over 15000 verses. Osho talked on that Dariya in Dariya Kahai Sabda Nirbana (दरिया कहै सब्द निरबाना), just a month and a half before the talks for Ami Jharat.
As of Aug 2017, there have been no known editions in hard copy since the first Rajneesh Foundation book in 1978, but audio and an e-book can be found. See discussion for a TOC and more.
Later ch.1-5 published as Jaat Hamari Brahm Hai (जात हमारी ब्रह्म है), ch.6-10 as Dariya Jhooth So Jhooth Hai (दरिया झूठ सो झूठ है).
time period of Osho's original talks/writings
Jul 11, 1977 to Jul 20, 1977 : timeline
number of discourses/chapters
10


editions

Kaano Suni 1978 cover.jpg

Kano Suni So Jhooth Sab (कानों सुनी सो झूठ सब)

Year of publication : 1978
Publisher : Rajneesh Foundation
Edition no. : 1
ISBN
Number of pages : ~345
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :
© copyright: Rajneesh Foundation, Poona 1978
publisher: Ma Yoga Laxmi, secretary, Rajneesh Foundation, Shree Rajneesh Ashram, 17, Koregaon Park, Poona—411001
price: 50 rupees
3000 copies
printer: G. A. Joshi, K. Joshi and Co., block makers and art printers, Nikat Bhikardas Maruti Temple, Poona 411030

Blank.jpg

Kano Suni So Jhooth Sab (कानों सुनी सो झूठ सब)

Year of publication :
Publisher : Diamond Books
Edition no. :
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes :