Difference between revisions of "Adhyatma Upanishad (अध्यात्म उपनिषद)"

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search
m (correct info)
 
Line 2: Line 2:
 
description = एक ॠषि की स्वच्छ और पैनी दृष्टि इन सूत्रों में निहित है। उस पर ओशो की प्रबुद्ध वाणी और गहरी अभिव्यक्ति ने और भी अधिक धार दी है। द्रष्टा का बोध एवं उसकी प्रक्रिया, साक्षी का स्वरूप और उसका जीवन में प्रतिफलन, उपनिषद की इस मूल धारा को ओशो कहते हैं,‘‘उपनिषद मन का विलास नहीं, जीवन का रूपांतरण है।’’ -ओशो  |
 
description = एक ॠषि की स्वच्छ और पैनी दृष्टि इन सूत्रों में निहित है। उस पर ओशो की प्रबुद्ध वाणी और गहरी अभिव्यक्ति ने और भी अधिक धार दी है। द्रष्टा का बोध एवं उसकी प्रक्रिया, साक्षी का स्वरूप और उसका जीवन में प्रतिफलन, उपनिषद की इस मूल धारा को ओशो कहते हैं,‘‘उपनिषद मन का विलास नहीं, जीवन का रूपांतरण है।’’ -ओशो  |
 
translated = |
 
translated = |
notes =  Talks on Adhyatma Upanishad were at the last of the three [[Meditation Camps|meditation camps]] that comprised the mega-series ''[[That Art Thou]]''. Talks were in HIndi and English. See the notes of ''[[That Art Thou]]'' for an overview of the three camps, and see [[{{TALKPAGENAME}}|discussion]] here for the Hindi discourse titles.
+
notes =  Talks on Adhyatma Upanishad were at the last of the three [[Meditation Camps|meditation camps]] that comprised the mega-series ''[[That Art Thou]]''. Talks were in Hindi and English. See the notes of ''[[That Art Thou]]'' for an overview of the three camps, and see [[{{TALKPAGENAME}}|discussion]] here for the Hindi discourse titles.
 
:Translated into English as ''[[Finger Pointing to the Moon]]''.
 
:Translated into English as ''[[Finger Pointing to the Moon]]''.
 
|
 
|

Latest revision as of 05:15, 11 October 2019


एक ॠषि की स्वच्छ और पैनी दृष्टि इन सूत्रों में निहित है। उस पर ओशो की प्रबुद्ध वाणी और गहरी अभिव्यक्ति ने और भी अधिक धार दी है। द्रष्टा का बोध एवं उसकी प्रक्रिया, साक्षी का स्वरूप और उसका जीवन में प्रतिफलन, उपनिषद की इस मूल धारा को ओशो कहते हैं,‘‘उपनिषद मन का विलास नहीं, जीवन का रूपांतरण है।’’ -ओशो
notes
Talks on Adhyatma Upanishad were at the last of the three meditation camps that comprised the mega-series That Art Thou. Talks were in Hindi and English. See the notes of That Art Thou for an overview of the three camps, and see discussion here for the Hindi discourse titles.
Translated into English as Finger Pointing to the Moon.
time period of Osho's original talks/writings
Oct 13, 1972 to Oct 21, 1972 : timeline
number of discourses/chapters
17


editions

Adhyatma Upanishad 1976 cover.jpg

Adhyatma Upanishad (अध्यात्म उपनिषद)

Year of publication : Dec 1976
Publisher : Rajneesh Foundation
Edition no. : 1
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes :

2486 sml.jpg

Adhyatma Upanishad (अध्यात्म उपनिषद)

Year of publication : 2001
Publisher : Rebel Publishing House, India
Edition no. : ?
ISBN 81-7261-030-0 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 332
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes :

2486 sml.jpg

Adhyatma Upanishad (अध्यात्म उपनिषद)

Year of publication :
Publisher : Divyansh Publications
Edition no. :
ISBN 978-93-84657-43-7 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 332
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :

Blank.jpg

Adhyatma Upanishad (अध्यात्म उपनिषद)

Year of publication :
Publisher : Divyansh Publications
Edition no. :
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

2486.jpg

Adhyatma Upanishad (अध्यात्म उपनिषद)

Year of publication : 2009
Publisher : Osho Media International
Edition no. :
ISBN 978-8172610302 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 336
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :

2486.jpg

Adhyatma Upanishad (अध्यात्म उपनिषद)

Year of publication :
Publisher : Osho Media International
Edition no. :
ISBN 978-0-88050-939-8 (click ISBN to buy online)
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook : E
Edition notes :