Amrit Varsha (अमृत वर्षा)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


बुद्ध और महावीर ने तो जीवन को आनंद कहा है। उपनिषद के ऋषियों ने चिल्ला कर कहा है कि अमृत और आनंद है यह जीवन। जिन्होंने उस जीवन को जाना है, वे तो नाचने लगे हैं। लेकिन हम, हम भी उसी जीवन में खड़े हैं, और हमें कुछ दिखाई नहीं पड़ता। हम उन अंधों की भांति हैं जो प
notes
A collection of talks given in Poona, Bombay and Balasinor, available apparently only in audio and e-book. See discussion for a TOC and events.
Chapter 6 is also available in e-books: Aath Pahar Youn Jhumte (आठ पहर यूं झूमते) (ch.1), Jeevan Ki Kala (जीवन की कला) (ch.3).
time period of Osho's original talks/writings
Jun 19, 1965 to Sep 17, 1967 : timeline
number of discourses/chapters
6


editions

Blank.jpg

Amrit Varsha (अमृत वर्षा)

Year of publication : <1997
Publisher :
Edition no. :
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes : A list from Osho Diary 1997 (the image) mentiones this title as published earlier. Mentioned also in Manuscripts ~ Title Pages.

Blank.jpg

Amrit Varsha (अमृत वर्षा)

Year of publication :
Publisher :
Edition no. :
ISBN 978-0-88050-942-8 (click ISBN to buy online)
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook : E
Edition notes :