Bharat: Ek Anuthi Sampada (भारत : एक अनूठी सम्पदा)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


भारत केवल एक भूगोल या इतिहास का अंग ही नहीं है। यह सिर्फ एक देश, एक राष्‍ट्र एक जमीन का टुकड़ा मात्र नहीं है। यह कुछ और भी है- एक प्रतीक, एक काव्‍य, कुछ अदृश्‍य सा-किंतु फिर भी जिसे छुआ जा सके। कुछ विशेष ऊर्जा-तरंगों से स्‍पंदित है यह जगह, जिसका दावा कोई और नहीं कर सकता। भारत एक अनूठी संपदा ओशों द्वारा विभिन्‍न प्रश्‍नोत्‍तर प्रवचनमालाओं के उपनिषद-सूत्रों, संस्‍कृत-सुभाषितों एवं वेद व ॠषि वाक्‍यों पर दिए गए प्रश्‍नोत्‍तर प्रवचनांशों के संकलन ‘मेरा स्‍वर्णिम भारत में से संकलित आठ (34 से 41) प्रवचन है।
notes
See discussion for a TOC.
Originally published as the part of Mera Swarnim Bharat (मेरा स्वर्णिम भारत), ch.34-40 and Appendix 1.
time period of Osho's original talks/writings
(unknown)
number of discourses/chapters
8


editions

Bharat Ek Anuthi Sampada.jpg

Bharat: Ek Anuthi Sampada (भारत : एक अनूठी सम्पदा)

Year of publication : 2003
Publisher : Diamond Pocket Books
Edition no. :
ISBN 81-7182-235-5 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 144
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :