Chit Chakmak Lage Nahin (चित चकमक लागै नहीं)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


विचार समझ से महत्वपूर्ण हो गए हैं, क्योंकि बहुत ममत्व हमने उनको दिया है। इस ममत्व को एकदम तोड़ देना जरूरी है। और तोड़ना कठिन नहीं है, क्योंकि यह बिलकुल काल्पनिक है। यह जंजीर कहीं है नहीं, केवल कल्पना में है। विचार के प्रति ममत्व का त्याग जरूरी है।
पहली बात: विचार के प्रति अपरिग्रह का बोध।
दूसरी बात: विचार के प्रति ममत्व का त्याग।
और तीसरी बात: विचार के प्रति तटस्थ साक्षी की स्थिति।
पुस्तक के कुछ मुख्य विषय-बिंदु:
जीवन की खोज और मृत्यु का बोध
क्या हमारे मन स्वतंत्र हैं या परतंत्र?
कहां है इस सारे जगत का जीवन-स्रोत?
निर्विचार द्वार है सत्य का
notes
See discussion for a TOC and some explorations of this and that.
Translated into English as The Independent Mind. The colophon of that translation suggests the existence of a 1979 Hindi or English text.
Also published as the first 6 chapters of Moulik Kranti (मौलिक क्रान्ति).
Audio exists for the first six talks but cannot be found for the seventh, nor can a hard copy version, but its existence as an event is strongly inferred as a Q&A session on the final night of a 4-nights-and-3-days "urban camp" in Mumbai, wherein Osho declares from the first night that there will be Q&A sessions for the next three nights.
time period of Osho's original talks/writings
Nov 19 1967 to Nov 22 1967 : timeline
number of discourses/chapters
6 or 7


editions

Chakmak-2.jpg

Chit Chakmak Lage Nahin (चित चकमक लागै नहीं)

Year of publication : 2012
Publisher : Osho Media International
Edition no. : 1
ISBN 978-81-7261-268-9 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 124
Hardcover / Paperback / Ebook : H/P?
Edition notes : **

Chakmak-2.jpg

Chit Chakmak Lage Nahin (चित चकमक लागै नहीं)

Year of publication : 2018
Publisher : Osho Media International
Edition no. :
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook : E
Edition notes :