Dharm Ki Yatra (धर्म की यात्रा)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


विचार एक दिशा है। विचार से कोई पंडित हो सकता है, प्रज्ञा को उपलब्ध नहीं। ध्यान एक दशा है, ध्यान एक दिशा है। ध्यान से कोई विचार को उपलब्ध नहीं होता, लेकिन प्रज्ञा को और ज्ञान को उपलब्ध होता है। इस समय सारी दुनिया और सारी मनुष्य-जाति विचार से पीड़ित है।
notes
Osho responds to seekers' questions, available apparently only in audio. See discussion for a TOC and some info.
Chapter 4 published as ch.1 (of 7) of Aankhon Dekhi Sanch (आंखों देखी सांच).
Chapter 9 published as ch.2 (of 7) of Panth Prem Ko Atpato (पंथ प्रेम को अटपटो).
time period of Osho's original talks/writings
1966 to 1967 + ? : timeline
number of discourses/chapters
9


editions

Blank.jpg

Dharm Ki Yatra (धर्म की यात्रा)

Year of publication : ≤Jun 1999
Publisher :
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes : Source: list of books from Dhyan Ke Kamal (ध्यान के कमल) (1999.06 ed.)