Geeta-Darshan, Adhyaya 18 (गीता-दर्शन, अध्याय १८)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


गीता पर दिए गए ओशो के अमृत प्रवचन हमारी प्यास बुझाने के लिये कम, जगाने के लिये अधिक उपयोगी हैं। ओशो ने गीता के संदेश को पुनरुज्जीवित करते हुए जो वचन कहे हैं वे बहुमूल्य हैं: गीता अनूठी है, युद्ध के मैदान में पैदा हुई है। किसी शिष्य ने किसी गुरु से नहीं पूछा है; किसी शिष्य ने गुरु की एकांत कुटी में बैठकर जिज्ञासा नहीं की है। युद्ध की सघन घड़ी में जहां जीवन और मौत दांव पर लगे हैं, वहां अर्जुन ने कृष्ण से पूछा है यह दांव बड़ा महत्वपूर्ण है। और जब तक तुम्हारा भी जीवन दांव पर न लगा हो अर्जुन जैसा, तब तक तुम कृष्ण का उत्तर न पा सकोगे।
notes
Osho's discourses in Hindi on the Bhagavad Gita were given in the early 70's over a period of several years, and first published in Hindi as a series of 18 volumes under the overall title of Geeta-Darshan. See the Geeta-Darshan (गीता-दर्शन) (series) homepage for an overview.
This volume contains Osho's discourses on chapter 18 (adhyaya 18: Moksha–Sanyasa yoga) of the Bhagavad Gita. Talks for this volume were given in Pune. It was later published as the second part of Geeta-Darshan, Bhag 8 (गीता-दर्शन, भाग आठ), the eighth volume of the 8-volume aggregation which has become Geeta's default publishing mode. See discussion for a TOC.
time period of Osho's original talks/writings
Jul 21 1975 to Aug 10 1975 ** : timeline
number of discourses/chapters
21


editions

Geeta-Darshan, Adhyaya 18 1977 cover.jpg

Geeta-Darshan, Adhyaya 18 (गीता-दर्शन, अध्याय १८)

Year of publication : Mar 1977
Publisher : Rajneesh Foundation
Edition no. : 1
ISBN : none
Number of pages : 600
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :

Geeta-Darshan, Adhyaya 18 1977 cover.jpg

Geeta-Darshan, Adhyaya 18 (गीता-दर्शन, अध्याय १८)

Year of publication : Mar 1977
Publisher : Rajneesh Foundation
Edition no. : 1
ISBN : none
Number of pages : 600
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :