Jeevan Geet (जीवन गीत)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


"अगर तुम जिंदगी से पूछो--पत्थरों से, पौधों से, आदमियों से, आकाश से, तारों से--तो सब तरफ से उत्तर मिलेंगे। लेकिन तुम पूछो ही नहीं, तो उत्तरों की वर्षा नहीं होती, ज्ञान कहीं बरसता नहीं किसी के ऊपर। उसे तो लाना पड़ता है, उसे तो खोजना पड़ता है। और खोजने के लिए सबसे बड़ी जो बात है वह हृदय के द्वार खुले हुए होने चाहिए। वे बंद नहीं होने चाहिए। दुनिया की तरफ से दरवाजे बंद नहीं होने चाहिए, बिलकुल खुला हुआ मन होना चाहिए। और जो भी आए चारों तरफ से, निरंतर सजग रूप से, होशपूर्वक उसे समझने, सोचने और विचारने की दृष्टि बनी रहनी चाहिए।" —ओशो
notes
Five talks from 1966 at a meditation camp in Nashik, Maharashtra, only partially available in audio. See discussion for a TOC and a word or two.
time period of Osho's original talks/writings
Oct 28 1966 to Oct 30 1966 : timeline
number of discourses/chapters
5


editions

Jeevan-Geet-cover.jpg

Jeevan Geet (जीवन गीत)

Year of publication : 2014
Reprint 2015
Publisher : OSHO Media International
Edition no. :
ISBN 978-81-7261-296-2 (click ISBN to buy online)
Number of pages : ~100
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes : published by OSHO Media International, 17 Koregaon Park, Pune 411001 MS, India
Copyright © 1966, 2014 OSHO International Foundation, www.osho.com/copyrights
Reprint 2015
All rights reserved, etc
Printed in India by Manipal Technologies Limited, Karnataka, India
ISBN 978-81-7261-296-2

Jeevan Geet 2.jpg

Jeevan Geet (जीवन गीत)

Year of publication : 2018
Publisher : Osho Media International
Edition no. :
ISBN 978-0-88050-821-6 (click ISBN to buy online)
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook : E
Edition notes :