Jin-Sutra, Bhag 2 (जिन-सूत्र, भाग दो)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


महावीर के व्यक्तित्व की विशेषताओं में एक विशेषता यह भी है कि उन्हें जो सत्य की अनुभूति हुई है, उसकी अभिव्यक्ति को जीवन के समस्त तलों पर प्रकट करने की कोशिश की है। मनुष्य तक कुछ बात कहनी हो, कठिन तो बहुत है, लेकिन फिर भी बहुत कठिन नहीं है। लेकिन महावीर ने एक चेष्टा की जो अनूठी है और नई है। और वह चेष्टा यह है कि पौधे, पशु-पक्षी, देवी-देवता, सब तक--जीवन के जितने तल हैं, सब तक--उन्हें जो मिला है, उसकी खबर पहुंच जाए! ओशो
notes
Talks given in Poona on Mahaveer. This is the second volume of four.
Later published as 2-volume set. This book matches ch.17-31 of Jin-Sutra, Bhag 1 (जिन-सूत्र, भाग एक) (2). See discussion there for more info.
time period of Osho's original talks/writings
May 27, 1976 to Jun 10, 1976 : timeline
number of discourses/chapters
15


editions

Jin-Sutra, Bhag 2a cover.jpg

Jin-Sutra, Bhag 2 (जिन-सूत्र, भाग दो)

Year of publication : Dec 1976
Publisher : Rajneesh Foundation
ISBN : none
Number of pages : 480
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :

JinSutra2.jpg

Jin-Sutra, Bhag 2 (जिन-सूत्र, भाग दो)

महावीर क्या आए जीवन में   हजारों-हजारों बहारें आ गईं   (Mahaveer kya aae jeevan mein   hajaaron-hajaaron bahaaren aa gaeen)

Year of publication : 2012?
Publisher : Divyansh Publications
ISBN 9789380089768 (click ISBN to buy online)
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

Jin-Sutra Bhag 2(2).jpg

Jin-Sutra, Bhag 2 (जिन-सूत्र, भाग दो)

Year of publication : 2014
Publisher : OSHO Media International
ISBN 978-81-7261-277-1 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 432
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :