Jin-Sutra, Bhag 4 (जिन-सूत्र, भाग चार)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


इस जगत की सबसे अपूर्व घटना है किसी व्यक्ति का सिद्ध या बुद्ध हो जाना। इस जगत की अनुपम घटना है किसी व्यक्ति का जिनत्व को उपलब्ध हो जाना, जिन हो जाना। उस अपूर्व घटना के पास जला लेना अपने बुझे हुए दीयों को। अवसर देना अपने हृदय को, कि फिर धड़क उठे उस अज्ञात की आकांक्षा से, अभीप्सा से।...महावीर के इन सूत्रों पर बात की है इसी आशा में कि तुम्हारे भीतर कोई स्वर बजेगा, तुम ललचाओगे, चाह उठेगी, चलोगे। ओशो
notes
Talks on Mahaveer.
4 volumes later published as 2-vol set. This book matches ch.17-31 of Jin-Sutra, Bhag 2 (जिन-सूत्र, भाग दो) (2). See discussion there for some info.
time period of Osho's original talks/writings
Jul 27, 1976 to Aug 10, 1976 : timeline
number of discourses/chapters
15


editions

Jin-Sutra, Bhag 4 1978 cover.jpg

Jin-Sutra, Bhag 4 (जिन-सूत्र, भाग चार)

Year of publication : 1978
Publisher : Rajneesh Foundation
Edition no. : 1
ISBN : none
Number of pages : 488
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :

Jin-Sutra Bhag 4.jpg

Jin-Sutra, Bhag 4 (जिन-सूत्र, भाग चार)

Year of publication : 2012
Publisher : Divyansh Publications
Edition no. :
ISBN 978-9380089782 (click ISBN to buy online)
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

Jin-Sutra Bhag 4.jpg

Jin-Sutra, Bhag 4 (जिन-सूत्र, भाग चार)

Year of publication : 2014
Publisher : OSHO Media International
Edition no. :
ISBN 978-81-7261-279-5 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 456
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :