Jo Bole To Harikatha (जो बोलैं तो हरिकथा)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


प्रश्नोत्तर प्रवचनमाला के अंतर्गत पुणे में ओशो द्वारा दिए ग्यारह प्रवचन।
जीवन को जीओ। जीवन एक अवसर है, उसे चूको मत। उसके उतार-चढ़ाव देखो। उसकी अंधेरी घाटियों में भी उतरो और प्रकाशोज्वल शिखरों पर भी चढ़ो। कांटे भी चुभेंगे, फूल भी हाथ लगेंगे। इन दोनों को भोगो, क्योंकि इन दोनों के भोगने से ही तुम्हारे भीतर आत्मा पैदा होगी। इसी चुनौती में से गुजर कर, इसी आग में से गुजर कर तो आत्मा का जन्म होता है।
notes
Osho's reponses to questions from seekers in Pune. See discussion for some infobits.
Perhaps published as Hind Pocket Books as two small books, see Talk:Raso Vai Sah (रसो वै सः) and Talk:Prem Ka Shikhar (प्रेम का शिखर).
time period of Osho's original talks/writings
Jul 21, 1980 to Jul 31, 1980 : timeline
number of discourses/chapters
11   (see table of contents)


editions

Jo Bole To Harikatha 1980 cover.jpg

Jo Bole To Harikatha (जो बोलैं तो हरिकथा)

Year of publication : Dec 1980
Publisher : Rajneesh Foundation
ISBN : none
Number of pages : 339
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :

Jo Bole To Harikatha 1980 cover.jpg

Jo Bole To Harikatha (जो बोलैं तो हरिकथा)

Year of publication : Dec 1980
Publisher : Rajneesh Foundation
ISBN : none
Number of pages : 339
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

Jo-Bolain-2.jpg

Jo Bole To Harikatha (जो बोलैं तो हरिकथा)

संन्यास जीवन से विरक्ति नहीं है -- जीवन को भोगने की कला है। (Sannyas Jeevan Se Virakti Nahin Hai -- Jeevan Ko Bhogane Ki Kala Hai)

Year of publication : 2010
Publisher : Hind Pocket Books
ISBN 978-81-216-1507-5 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 360
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes : ed Sw Yoga Chinmaya

Jo Bole To Harikatha 2014 cover.jpg

Jo Bole To Harikatha (जो बोलैं तो हरिकथा)

संन्यास जीवन से विरक्ति नहीं है -- जीवन को भोगने की कला है। (Sannyas Jeevan Se Virakti Nahin Hai -- Jeevan Ko Bhogane Ki Kala Hai)

Year of publication : 2014
Publisher : Hind Pocket Books
ISBN 978-81-216-1507-5 (click ISBN to buy online)
Number of pages : ~360
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

Jo Bole To Harikatha3.jpg

Jo Bole To Harikatha (जो बोलैं तो हरिकथा)

Year of publication : 2018
Publisher : Osho Media International
ISBN 978-0-88050-810-0 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 689
Hardcover / Paperback / Ebook : E
Edition notes :

table of contents

editions 1980.12, 2014**
chapter titles
discourses
event location duration media
1 समाधिस्थ स्वर : हरिकथा 21 Jul 1980 am Buddha Hall, Pune 1h 47min audio
2 जीवन्त धर्म** 22 Jul 1980 am Buddha Hall, Pune 1h 54min audio
3 धर्म है महाभोग 23 Jul 1980 am Buddha Hall, Pune 1h 59min audio
4 रसरूप भगवत्ता 24 Jul 1980 am Buddha Hall, Pune 2h 5min audio
5 झूठा धर्म और राजनीति 25 Jul 1980 am Buddha Hall, Pune 2h 5min audio
6 धर्म का रहस्यवाद 26 Jul 1980 am Buddha Hall, Pune 1h 51min audio
7 धर्म और सद्गुरु 27 Jul 1980 am Buddha Hall, Pune 2h 6min video
8 प्रेम है धर्म का शिखर 28 Jul 1980 am Buddha Hall, Pune 2h 3min audio
9 ध्यान-प्रेम-समर्पण 29 Jul 1980 am Buddha Hall, Pune 1h 42min audio
10 जीवन्त अद्वैत** 30 Jul 1980 am Buddha Hall, Pune 1h 27min audio
11 स्वानुभव का दीया 31 Jul 1980 am Buddha Hall, Pune 1h 29min audio
** 2014ed. has the same chapter titles as 1980ed. except two small differences:
ch.2 = जीवंत धर्म
ch.10 = जीवंत अद्वैत