Kan Thore Kankar Ghane (कन थोरे कांकर घने)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


बाबा मलूकदास—यह नाम ही मेरा हृदय-वीणा को झंकृत कर जाता है। जैसे अचानक वसंत आ जाय! जैसे हजारों फूल अचानक झर जायं! नानक से मैं प्रभावित हूं; कबीर से चकित हूं; बाबा मलूकदास से मस्त। ऐसे शराब में डूबे हुए वचन किसी और दूसरे संत के नहीं हैं। नानक में धर्म का सारसूत्र है, पर रूखा-सूखा। कबीर में अधर्म को चैनौती है—बड़ी क्रांतिकारी, बड़ी विद्रोही। मलूक में धर्म की मस्ती है; धर्म का परमहंस रूप; धर्म को जिसने पीया है, वह कैसा होगा। न तो धर्म के सारतत्व को कहने की बहुत चिंता है, न अधर्म से लड़ने का कोई आग्रह है। धर्म की शराब जिसने पी है, उसके जीवन में कैसी मस्ती की तरंग होगी, उस तरंग से कैसे गीत फूट पड़ेंगे, उस तरंग से कैसे फूल झरेंगे, वैसे सरल अलमस्त फकीर का दिग्दर्शन होगा मलूक में।
notes
Talks in Poona on Maluk Das, a poet-mystic of the Mughal era. Osho speaks on Maluk Das also in Ramduware Jo Mare (रामदुवारे जो मरे), in 1979. See discussion for Osho on Maluk from Books I Have Loved.
time period of Osho's original talks/writings
May 11, 1977 to May 20, 1977 : timeline
number of discourses/chapters
10   (see table of contents)


editions

Kan Thore Kankar Ghane 1977 cover.jpg

Kan Thore Kankar Ghane (कन थोरे कांकर घने)

(मलूक-वाणी पर दस प्रवचन) (Maluk-Vani Par Das Pravachan)

Year of publication : Dec 1977
Publisher : Rajneesh Foundation
ISBN : none
Number of pages : 385
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :

Kan Thore Kankar Ghane.jpg

Kan Thore Kankar Ghane (कन थोरे कांकर घने)

मलुकदास वानी (Malukdas Vani)

Year of publication : 2015
Publisher : Osho Media International
ISBN 978-81-7261-321-1 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 346
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :

Kan Thore Kankar Ghane.jpg

Kan Thore Kankar Ghane (कन थोरे कांकर घने)

मलुकदास वानी (Malukdas Vani)

Year of publication : 2018
Publisher : Osho Media International
ISBN
Number of pages : 638
Hardcover / Paperback / Ebook : E
Edition notes :

table of contents

edition 1977.12
chapter titles
discourses
event location duration media
1 अलमस्त फकीरा 11 May 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 33min audio
2 क्रान्तिद्रष्टा सन्त 12 May 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 44min audio
3 परमात्मा को रिझाना है 13 May 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 43min audio
4 भक्ति की शराब 14 May 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 46min audio
5 प्रभु की अनुकम्पा 15 May 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 36min audio
6 जीवन्त अनुभूति 16 May 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 35min audio
7 मिटने की कला : प्रेम 17 May 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 26min audio
8 आध्यात्मिक पीड़ा 18 May 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 34min audio
9 उधार धर्म से मुक्ति 19 May 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 38min audio
10 अवधूत का अर्थ 20 May 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 38min audio