Kranti Sutra (क्रांति सूत्र)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


ओशो के चार अमृत प्रवचन।
जो लोग भी जीवन में क्रांति चाहते हैं, सबसे पहले उन्हें समझ लेना होगा कि बंधा हुआ आदमी कभी भी जीवन की क्रांति से नहीं गुजर सकता है। और हम सारे ही लोग बंधे हुए लोग हैं। यद्यपि हमारे हाथों पर जंजीरें नहीं हैं, हमारे पैरों में बेड़ियां नहीं हैं; लेकिन हमारी आत
notes
The description above refers to four discourses. Another, apparently different book with the same name has 22 chapters. See discussion for the beginning of an attempt to sort out the anomalies and conundra that surround this book.
Published in book form as ch.15-18 of Sambhog Se Samadhi Ki Or (संभोग से समाधि की ओर) and Jeevan Kranti Ke Sutra (जीवन क्रांति के सूत्र) (2).
time period of Osho's original talks/writings
(unknown)
number of discourses/chapters
4


editions

Blank.jpg

Kranti Sutra (क्रांति सूत्र)

Year of publication :
Publisher : unknown
Edition no. :
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes :