Letter written on 13 Aug 1966 (Sohan)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search

Letter written to Ma Yoga Sohan on 13 Aug 1966. It is unknown if it has been published or not.

हे सोहन देवी !

क्या आप नाराज होगई है?

अहिर्निश पत्र की प्रतीक्षा है। डाकिया -देव आते हैं और चले जाते हैं, लेकिन आपके ह्रदय की कठोरता नहीं पिघलती सो नहीं पिघलती !

डाकिया-देव यदि आज भी आपका सुसमाचार न लाये तो बड़े देवी-देवताओं को सीरनी बोलने का विचार किया है !

हे देवी ! ऐसी मुख-मुद्रा तो आपने कभी भी प्रगट न की थी ? क्या कलियुग में नये अभ्यास कर रहीं हैं ?

मैं तो दूर हूँ। किन्तु बेचारे माणिक बाबू का क्या होगा ? वे तो मंदिर के पुरोहित ही ठहरे !

वैसे आप की कृपा से यहां सब कुशल है। लेकिन शीघ्र ' प्रसन्न मुख-मुद्रा ' प्रगट कीजिए, जिससे धैर्य बंधे।

रजनीश के प्रणाम

१३ अगस्त १९६६

पुनश्चः अभी अभी पुजारी जी का तार जरूर मिला है। पर आपके स्वयं के शब्दों के बिना आश्वासन कहां ?

Sohan img668.jpg


See also
Letters to Sohan ~ 072 - The event of this letter.
Letters to Sohan and Manik - Overview page of these letters.