Difference between revisions of "Letter written on 14 Nov 1966 am"

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search
 
(One intermediate revision by the same user not shown)
Line 32: Line 32:
  
  
[[Category:Manuscripts]] [[Category:Manuscript Letters (hi:पांडुलिपि पत्र)|Letter 1966-12-24 am]]
+
[[Category:Manuscripts|Letter 1966-11-14-am]] [[Category:Manuscript Letters (hi:पांडुलिपि पत्र)|Letter 1966-11-14-am]]
[[Category:Newly discovered since 1990]]
+
[[Category:Newly discovered since 1990|Letter 1966-11-14-am]]
 +
[[Category:Unpublished Hindi (hi:अप्रकाशित हिंदी)|Letter 1966-11-14-am]]

Latest revision as of 01:42, 21 August 2022

Letter written to Shree Ajit Kumar Jain (Sw Prem Akshat), Jabalpur, editor of Yukrand (युक्रांद) magazine, on 14 November 1966 in the morning. Date maybe 24 Dec 1966 am.

Letters to Ajit02.jpg

प्रभात --
१४/११/१९६६

प्रिय अजित,
प्रेम। तुम्हारा पत्र मिला है। जीवन तब तक भय बना रहता है, जबतक व्यक्ति स्वयं से भागता है। स्वयं की स्वीकृति में ही अभय है।

मैं जैसा हूँ, जो हूँ, और जहां हूँ, उसे स्वीकार करते ही भय विलीन हो जाता है। और स्वयं हो जीना सीख लेना, स्वयं में आमूल क्रांति का सूत्र है।

एकांत में जाना और स्वयं में झांकना। वहां क्या है? शून्य और शून्य। शब्दों के थोड़े बबूले हैं और जब वे भी शांत हो जाते हैं तो क्या है? शून्य और शून्य।

इस शून्य से भागना ही भय है।

इस शून्य से भागना ही संसार है।

और इस शून्य में जाग जाना और इस शून्य से एक हो जाना--मोक्ष।

वहां सबको प्रणाम।

रजनीश के प्रणाम


See also
Letters to Ajit ~ 02 - The event of this letter.