Letter written on 16 Sep 1965

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search

Letter written to Ma Yoga Sohan on 16 Sep 1965. It is unknown if it has been published or not.

Sohan img609.jpg

आचार्य रजनीश

प्यारी सोहन,
भारत-पाक युद्ध से पैदा हुये अशांत वातावरण के कारण अक्तूबर में होने वाला साधना शिविर स्थगित करना पड़ा है। माणिक बाबू को कहना कि यदि पूना के मित्र चाहें तो ८, ९, १० अक्तूबर को पूना में एक त्रिदिवसीय ' सत्संग 'रखा जासकता हैं। एैसे सत्संग सारे देश के बड़े नगरों में रखने का विचार बना है। पूना से ही उद्घाटन करने का विचार है। शिविर में थोड़े से ही मित्र लाभ लेपाते हैं। ' सत्संग ' में हजारों लोग सम्मिलित होसकेंगे। सत्संग तीन दिनों का होगा और सुबह ८ से ९ तक व्याख्यान रहेगा तथा रात्रि में ८ से ९ प्रश्नोत्तर और ९ से ९।। सामूहिक ध्यान (बैठकर ही) ।जितने अधिक लोगों के बैठने की व्यवस्था हो उतना ही अच्छा है। जैसा तय हो शीघ्र मुझे लिखना क्योंकि उसके बाद ही मैं अक्तूबर के अन्य कार्यक्रम तय करूँगा। शेष शुभ। माणिक बाबू को प्रेम। बच्चों को आशीष।

रजनीश के प्रणाम

प्रभातः
१६/९/१९६५

______________________________________
जीवन जागृती केन्द्र : ११५ नेपियर टाउन : जबलपुर (म.प्र.)

Translation
"Dear Sohan,
The Sadhna Shivir organized for October has been suspended because of the disturbed atmosphere created by the India-Pak war. Tell Manik Babu that on 8, 9 and 10 October a three days’ ‘SATSANG’ can be kept in Poona if the friends of Poona wish so. It has been thought to keep such SATSANG in the big towns of the whole country. It’s desired to inaugurate from Poona itself. In the Shivir few friends are able to take benefits. In the ‘SATSANG’ thousands of people can join.
SATSANG will be of three days and in the morning 8 to 9 discourse as well as in the night 8 to 9, questions – answers and from 9 to 9:30 group meditation (sitting only). It would be good to have arrangements for sitting of as many people as possible. As may be decided, inform me soon because after that only I will decide for the other programs of October. Rest OK. Love to Manik Babu. Blessings to the children.
Rajneesh Ke Pranam
Morning:
16/9/1965"
See also
Letters to Sohan ~ 040 - The event of this letter.
Letters to Sohan and Manik - Overview page of these letters.