Letter written on 24 Aug 1969

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search

Osho wrote many letters in Hindi to Ma Kusum Bharti and her husband Kapil, then of Ludhiana. Most were addressed to Kusum, but always mentioning Kapil too. 27 were published in Prem Ke Swar (प्रेम के स्वर). Sannyas Wiki has images of all but one of those published in PKS, plus three unpublished ones, plus one in English published in The Gateless Gate.

This letter is dated 24th August 1969 and was published in Prem Ke Swar (प्रेम के स्वर) as letter #5. The letterhead is a typical one of those days, showing a simple all-lower-case "acharya rajneesh" at "kamala nehru nagar" in "jabalapur (m. p.)", with his 4-digit phone number and a two-colour Jeevan Jagriti Kendra logo.

Prem Ke Swar 05.jpg

acharya rajneesh

kamala nehru nagar : jabalpur (m.p.). phone : 2957

प्यारी कुसुम,
प्रेम। गुजरात के प्रवास से लौटते ही तेरा पत्र ढूंढा है।

बहुत से पत्र हैं।

ढूंढता हूँ -- ढूंढता हूँ -- ढूंढता हूँ -- और सोचता हूँ कि क्या तेरा पत्र नहीं है ?

नहीं -- इतनी कठोर तो तू नहीं है ?


नहीं, सच ही तू कठोर नहीं है !

तेरा पत्र है।

लेकिन पत्रों के ढेर में अंतिम।

प्रथम आया होगा इसलिए अंतिम है।

प्रथम होने के भी अपने खतरे हैं !


यह क्या लिखा है कि कहीं प्यास प्यास ही न रह जाये ?

नहीं -- पागल !

प्रभु की प्यास कभी भी प्यास ही नहीं रही है।

उसके प्रेम का सागर अनंत है।

और बस प्यास हो कि उसकी प्राप्ति के व्दार खुल जाते हैं।


कपिल और असंग को प्रेम।

रजनीश के प्रणाम

२४/८/१९६९


पुनश्चः तेरी भेजी बनियानें मिल गई हैं।

मैं श्रीनगर में शाही चश्मे पर बने काटेज़ेज में ठहर रहा हूँ। और १७ सितम्बर को दिल्ली से ११ बजे चलनेवाले प्लेन से १बजे दोपहर श्रीनगर पहुँचूंगा। तू तो श्रीनगर एयरपोर्ट पर ही पर ही मिल रही है न ?

Partial translation
"Dear Kusum,
Love! I have searched for your letter just after returning from Gujarat Tour.
...
P.S.: The vests (undershirts – warmers) sent by you have been received.
I will be staying in the cottages made on Shahi Chashme in Srinagar. And will be reaching Srinagar at 1 o’clock afternoon by the plane starting at 11 o’clock from Delhi on 17th September. You are meeting for sure at Srinagar Airport – isn’t it?


See also
Prem Ke Swar ~ 05 - The event of this letter.
Letters to Kusum and Kapil - Overview page of these letters.