Letter written on 26 Jul 1966

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search

Letter written to Ma Yoga Sohan on 26 Jul 1966. It is unknown if it has been published or not.

Sohan img674.jpg

आचार्य रजनीश

प्यारी सोहन,
प्रेम। तेरे पत्र। यह सोच मन में बड़ी ईर्ष्या होती है कि पूना में खूब वर्षा होरही है और तेरे घर के आसपास सब कुछ सुन्दर होगया होगा ! ऐसे समय मुझे भी तो वहां होना चाहिये न? लेकिन, तू बुलाती ही नहीं है ?

मैं २८ जुलाई को चांदा जारहा हूँ। २ अगस्त को वहां से वापस आऊँगा। अगस्त में संभवतः भिलाई और दिल्ली जाऊँ। शेष शुभ। माणिक बाबू को प्रेम। बच्चों को आशीष।

रजनीश के प्रणाम

२६/७/१९६६

______________________________________
जीवन जागृती केन्द्र : ११५ नेपियर टाउन : जबलपुर (म.प्र.)


Sohan img675.jpg

पुनश्चः अहमदाबाद का जुलाई का कार्यक्रम आगे के लिए स्थगित होगया है।

Partial translation
"I will be going to Chanda on 28th July. Will return back on 2nd August from there. Probably in August I may go to Bhilai and Delhi. Rest OK. Love to Manik Babu. Blessings to the children.
Rajneesh Ke Pranam
26/7/1966
PS: July’s program of Ahmedabad has been postponed further."
See also
Letters to Sohan ~ 070 - The event of this letter.
Letters to Sohan and Manik - Overview page of these letters.