Letter written on 28 Feb 1966

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search

Letter written to Ma Yoga Sohan on 28 Feb 1966 from Jabalpur. It is unknown if it has been published or not.

Sohan img625.jpg

जबलपुर
२८/२/१९६६

प्यारी सोहन,
तेरे पत्र मिले हैं। मौनू को लिखा पत्र (चोरी से ) देख लिया है। अहमदाबाद तो तू आयेगी नहीं। देखः पुराने बहाने तुझसे छूटते नहीं हैं ! बच्चों की परीक्षा तेरी साल भर ही चलती है !

फिर जब तू नहीं आयेगी तो सोचता हूँ कि गर्मी में अहमदाबाद क्यों भटकूँ ? कार्यक्रम स्थगित करने को लिख दिया है।

माणिक बाबू का पत्र भी मिला है। तू उन्हें कुछ समझाया कर ! तेरे ज्ञान को वे मानते भी बहुत हैं। मैंने जब तुझे सिद्ध देवी कह दिया है तो तुझे उपदेश करने में संकोच करने की अब कोई जरुरत नहीं है !

सबको प्रेम।

मैं आज बाहर जारहा हूँ।

मैं आनंद में हूँ।

रजनीश के प्रणाम

Partial translation
"You won’t be coming to Ahmedabad for sure... When you are not coming, I am thinking that why should I roam in Ahmedabad in the heat? I have written to postpone the program."


See also
Letters to Sohan ~ 061 - The event of this letter.
Letters to Sohan and Manik - Overview page of these letters.