Letter written on 28 Nov 1961 pm

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search

This is one of hundreds of letters Osho wrote to Ma Anandmayee, then known as Madan Kunwar Parakh. It was written on 28th November 1961 in the evening. PS on second sheet previously was as Undated Letter written to Anandmayee 008, see its talk page.

Osho's salutation in this letter is "प्रिय मां" (Priya Maan, Dear Mom). It has a few of the hand-written marks that have been observed in other letters: a blue number (38) in a circle in the top right corner, a second, pale and mirror-image number, unfortunately not entirely readable but presumed to be 64 in the bottom right corner, and a red tick mark. See discussion about the presumption of 64.

The letterhead is a new one, full of information about the "Sant Taaran Taran Jayanti Samaroha Samiti", or Sant Taaran Taran Birthday Celebration Committee. This is the third piece of this Committee's stationery we have come across, with earlier varieties found at Letter written on 25 Nov 1960 and Letter written on 15 Apr 1961 am. This particular STTJSS letterhead is also seen in an undated letter, a medium-sized PS.

It is unknown if this letter has been published or not.

Letterhead details: The Committee's name is in the largest font, written sideways on the left edge. To the right of that, various "members", functionaries and "guests" of the Committee are listed, too many to detail here but including the "director" Acharya Rajneesh, his cousin Arvind, possibly his other cousin Kranti, whose name may have been mis-rendered here as Kanti, and other family members (many Samaiyas). On the right top the "Karyalay" (Office) address is given as good old 115, Napier Town.

Letters to Anandmayee 866.jpg

संत तारण तरण जयंती समारोह समिति
कार्यालय:
११५, नेपियर टाउन जबलपुर (मध्यप्रदेश)

रात्रि: २८ नव. १९६१

प्रिय मां,
रात्रि के इस अंधेरे में मिलने एक युवक आये हैं। दूर से उनका आना हुआ है। थके हैं थके से ज्यादा टूटे हुए मालुम होते हैं। क्लांत, उदास चेहरे पर कहीं भी युवा होने का भाव नहीं है। एक गहरी रुग्ण निराशा ने उन्हें जकड़ लिया है। जीवित ही जैसे मर गए हैं।

सारा संसार ऐसा होता जारहा है।

मैं उनसे कारण पूछता हूँ। कोई प्रगट कारण नहीं है : सब तरह से सम्पन्न है : बस जीवन में सार्थकता नहीं दीखती है।

जीवन अपने से तो निरर्थक ही है। सार्थकता स्वयं उसमें डालनी होती है। सद्‌ विचार, सद्‌ विचारों से अनुप्राणित साधना जीवन में मूल्य ला देती है। वह है शून्य, उसका अपना कोई मूल्य नहीं है, साधना का अंक उसके आगे रखदें फिर जितना बड़ा अंक हो उतना ही मूल्य होजाता है। यह गणित भूल गया है, इससे दुख है। इस जीवन के गणित को वापिस लाना है।

वस्तुओं के गणित से बाह्य जगत्‌ में समृद्धि आई है पर मनुष्य भीतर खोखला और कंगाल होगया है। जीवन के गणित से भीतर का लोक भी आलोकित होसकता है।

मैं कल एक भाषण को इसी वाक्य से शुरू करने वाला हूँ : “मैं तुम्हें जीवन का गणित सीखाना चाहता हूँ।“ उस भाषण का विषय “जीवन का गणित” ही चूना है।

रजनीश के प्रणाम

xxx

Letters to Anandmayee 863.jpg

(पुनश्च:
मैं २५ दिस. की सुबह जयपुर पहुँचूँगा। २५ और २६ जयपुर रुकने का विचार है। एक दिन को चाहें तो वनस्थली चल सकता हूँ। पर आप पहले ही वनस्थली आयें तो दुबारा परेशान नहीं करूँगा। जयपुर के बाद १ या २ दिन के लिए देह्ली चलना है। लौटते में १ दिन आगरा ताजमहल देख लेंगे। आप दो दिन पूर्व निकल आयें ताकि शुशीला के पास रुक लें। उसे जयपुर ले आवें यह भी ठीक है। जयपुर में ही बुलढ़ाना का कार्यक्रम भी निश्चित कर लेंगे। मैं छुट्टी के लिए चेष्टा कर रहा हूँ छुट्टी मिल गई तो उस हालात में २४ दिस. को ही सुबह जयपुर पहुँचना होसकेगा। मेडल का कार्यक्रम २४ और २५ को है। शेष शुभ है। पारख जी को प्रणाम : छोटों को स्नेह।

रजनीश

Partial translation
"Tomorrow I will be starting my lecture with this very statement: “I want to teach you the mathematics of life.” The title (subject) of that lecture has been selected as “Mathematics of Life.”
PS:
I will reach Jaipur in the morning of 25th Dec – planning to stay at Jaipur on 25th and 26th. For one day I can come along to Vansthali, if you wish. But if you reach Vansthali first then you won’t be troubled for second time. After Jaipur would be going to Delhi for 1 or 2 days. On return we would see Taj Mahal at Agra for a day. You start before two days, so that you can stay with Susheela – it would be nice if you bring her also to Jaipur. We will decide about the program for Buldhana in Jaipur. I am trying for leave – if I leave gets sanctioned – in that case it would be possible to reach Jaipur in the morning of 24th. Program of medals is on 24th and 25th. Rest is OK. Pranam to Parakh Ji – love to the young ones."
See also
Letters to Anandmayee ~ 29 - The event of this letter.
Letters to Anandmayee - Overview page of these letters.