Letter written on 8 Sep 1965

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search

Letter written to Ma Yoga Sohan on 8 Sep 1965. It is unknown if it has been published or not.

Sohan img606.jpg

Acharya Rajnish

Jeevan Jagruti Kendra, 115, Napier Town, Jabalpur (M.P.)

सोहन,
प्रिय ! तेरा पत्र मिला है। मेरा स्वास्थ्य तो बिल्कुल ठीक है लेकिन डॉक्टर दिल्ली जाने की अनुमति नहीं देरहे हैं। विवशता में ही इंदौर-दिल्ली का कार्यक्रम स्थगित करना पड़ा है। उस संबंध में दिया तार भी तुझे मिल गया होगा। उसके कारण कोई चिन्ता न करना। अब तो अक्तूबर में ही तू मिल सकेगी ? तूने लिखा है कि तू दूर है और मेरे लिए कुछ भी नहीं कर पारही है ? पर मुझे तो बहुत निकट लगतीहै और तेरी शुभकामनायें मेरे प्राणोंमें गूंजती हैं।

माणिक बाबू को प्रेम। बच्चों को शुभाशीष। पूना की स्थिति तो अब ठीक है न ? तेरे पूना के लिए रोज समाचार पत्र देखने पड़ रहे हैं ?

रजनीश के प्रणाम

८ सित. १९६५

Partial translation
"Sohan,
Dear, your letter is received. My health is completely OK but the Doctor has not permitted to go to Delhi. Only in the helplessness, program of Indore – Delhi is required to be postponed. You must have received the telegram given in that regard. For that do not worry at all. Now, you will meet in the October only."


See also
Letters to Sohan ~ 038 - The event of this letter.
Letters to Sohan and Manik - Overview page of these letters.