Maine Ram Ratan Dhan Payo (मैंने राम रतन धन पायो)

From The Sannyas Wiki
Revision as of 11:33, 10 February 2021 by Dhyanantar (talk | contribs)
(diff) ← Older revision | Latest revision (diff) | Newer revision → (diff)
Jump to: navigation, search


आओ प्रेम की एक झील में नौका-विहार करें। और ऐसी झील मनुष्य के इतिहास में दूसरी नहीं है, जैसी झील मीरा है। मानसरोवर भी उतना स्वच्छ नहीं। और हंसों की ही गति हो सकेगी मीरा की इस झील में। हंस बनो, तो ही उतर सकोगे इस झील में। हंस न बने तो न उतर पाओगे।
हंस बनने का अर्थ है: मोतियों की पहचान आंख में हो, मोती की आकांक्षा हृदय में हो। हंसा तो मोती चुगे!
कुछ और से राजी मत हो जाना। क्षुद्र से जो राजी हो गया, वह विराट को पाने में असमर्थ हो जाता है। नदी-नालों का पानी पीने से जो तृप्त हो गया, वह मानसरोवरों तक नहीं पहुंच पाता; जरूरत ही नहीं रह जाती।
मीरा की इस झील में तुम्हें निमंत्रण देता हूं। मीरा नाव बन सकती है। मीरा के शब्द तुम्हें डूबने से बचा सकते हैं। उनके सहारे पर उस पार जा सकते हो।
notes
This book is the first of two on Meera, the 16th c celebrated arch-devotee of Krishna, and composer of some 1300 bhajans. Talks for the second book were given a month later. Collectively the two series are often called Pad Ghunghroo Bandh. See discussion for more on this.
Later published as ch.1-10 of Pad Ghunghru Bandh (पद घुंघरू बांध) (20 talks).
Later published as two books: Mere To Girdhar Gopal (मेरे तो गिरधर गोपाल) and Ram Naam Ras Peejai (राम नाम रस पीजै).
time period of Osho's original talks/writings
Oct 1, 1977 to Oct 10, 1977 : timeline
number of discourses/chapters
10   (see table of contents)


editions

Maine Ram Ratan Dhan Payo 1977 cover.jpg

Maine Ram Ratan Dhan Payo (मैंने राम रतन धन पायो)

मीरा-वाणी

Year of publication : Dec 1977
Publisher : Rajneesh Foundation
ISBN : none
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :

Maine Ram 2010 cover.jpg

Maine Ram Ratan Dhan Payo (मैंने राम रतन धन पायो)

Meera Diwani Par Charcha Suhani (मीरा दीवानी पर चर्चा सुहानी)

Year of publication : 2010
Publisher : Osho Media International
ISBN 9788172612498 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 320
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes : See also discussion
Maine Ram Ratan Dhan Payo
editing: Anand Satyarthi, Shanti Tyohar
published by OSHO Media International, 17 Koregaon Park, Pune 411001 MS, India
copyright: © 1977, 2010 OSHO International Foundation, www.osho.com/copyrights, all rights reserved, etc
printed in India by Manipal Press Limited, Manipal
ISBN 978-81-7261-249-8
Note - previous to this edition 'Maine Ram Ratan Dhan Payo' was published as a part of 'Pad Ghunghru Bandh'.

Maine Ram Ratan Dhan Payo 2.jpg

Maine Ram Ratan Dhan Payo (मैंने राम रतन धन पायो)

Year of publication : 2018
Publisher : Osho Media International
ISBN 978-0-88050-829-2 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 666
Hardcover / Paperback / Ebook : E
Edition notes :

table of contents

editions 1977.12, 2010**
chapter titles
discourses
event location duration media
1 प्रेम की झील में नौका-विहार 1 Oct 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 42min audio
2 समाधि की दो अभिव्यक्तियां** 2 Oct 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 41min audio
3 मैं तो गिरधर के घर जाऊं 3 Oct 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 42min audio
4 मृत्यु का वरण : अमृत का स्वाद 4 Oct 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 40min audio
5 पग घुंघरू बांध मीरा नाची रे** 5 Oct 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 47min audio
6 श्रद्धा है द्वार प्रभु का 6 Oct 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 48min audio
7 मैंने राम रतन धन पायो 7 Oct 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 42min audio
8 दमन नहीं--ऊर्ध्वगमन 8 Oct 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 36min audio
9 राम नाम रस पीजै मनुआं 9 Oct 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 43min audio
10 फूल खिलता है--अपनी निजता से** 10 Oct 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 43min audio
** 2010 edition has following differences in ch.-titles:
  • ch.2 = समाधि की अभिव्यक्तियां;
  • ch.5 = पद घुंघरू बांध मीरा नाची रे
  • ch.10 = फूल खिलता है अपनी निजता से