Man Hi Puja Man Hi Dhoop (मन ही पूजा मन ही धूप)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


एक दुर्घटना हुई है। और वह दुर्घटना है: मनुष्य की चेतना बहिर्मुखी हो गई है। सदियों से धीरे-धीरे यह हुआ, शनैः-शनैः, क्रमशः-क्रमशः। मनुष्य की आंखें बस बाहर थिर हो गई हैं, भीतर मुड़ना भूल गई हैं। तो कभी अगर धन से ऊब भी जाता है--और ऊबेगा ही कभी; कभी पद से भी आदमी ऊब जाता है--ऊबना ही पड़ेगा, सब थोथा है। कब तक भरमाओगे अपने को? भ्रम हैं तो टूटेंगे। छाया को कब तक सत्य मानोगे? माया का मोह कब तक धोखे देगा? सपनों में कब तक अटके रहोगे? एक न एक दिन पता चलता है सब व्यर्थ है। लेकिन तब भी एक मुसीबत खड़ी हो जाती है। वे जो आंखें बाहर ठहर गई हैं, वे आंखें अब भी बाहर ही खोजती हैं। धन नहीं खोजतीं, भगवान खोजती हैं--मगर बाहर ही। पद नहीं खोजतीं, मोक्ष खोजती हैं--लेकिन बाहर ही। विषय बदल जाता है, लेकिन तुम्हारी जीवन-दिशा नहीं बदलती। और परमात्मा भीतर है, यह अंतर्यात्रा है। जिसकी भक्ति उसे बाहर के भगवान से जोड़े हुए है, उसकी भक्ति भी धोखा है। मन ही पूजा मन ही धूप। चलना है भीतर! मन है मंदिर! उसी मन के अंतरगृह में छिपा हुआ बैठा है मालिक।
~ ओशो
notes
Osho's talks were given in Pune, on the 15th c Indian mystic Raidas. See discussion for more on this and a TOC.
Later ch.1-5 published as Sat Bhase Raidas (सत भाषै रैदास) and ch.6-10 as Aisi Bhakti Karai Raidasa (ऐसी भक्ति करै रैदासा).
time period of Osho's original talks/writings
Oct 1, 1979 to Oct 10, 1979 : timeline
number of discourses/chapters
10   (see table of contents)


editions

Man Hi Puja Man Hi Dhoop 1979 cover.jpg

Man Hi Puja Man Hi Dhoop (मन ही पूजा मन ही धूप)

Year of publication : Dec 1979
Publisher : Rajneesh Foundation
Edition no. : 1
ISBN : none
Number of pages : 305
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :
Alternative edition (title page, pub info, contents are the same):

2642 sml.jpg

Man Hi Puja Man Hi Dhoop (मन ही पूजा मन ही धूप)

Year of publication : 2003
Publisher : Rebel Publishing House, Pune, India
Edition no. : 1
ISBN 81-7261-025-4 (click ISBN to buy online)
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes :

ManHiP.jpg

Man Hi Puja Man Hi Dhoop (मन ही पूजा मन ही धूप)

Year of publication : 2011
Publisher : Osho Media International
Edition no. : 2
ISBN 978-81-7261-025-8 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 280
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :

ManHiPD.jpg

Man Hi Puja Man Hi Dhoop (मन ही पूजा मन ही धूप)

Year of publication :
Publisher : Diamond Books
Edition no. : 1
ISBN 9789350836248 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 272
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

ManHiPD.jpg

Man Hi Puja Man Hi Dhoop (मन ही पूजा मन ही धूप)

Year of publication : 2018
Publisher : Osho Media International
Edition no. :
ISBN 978-0-88050-880-3 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 575
Hardcover / Paperback / Ebook : E
Edition notes :

table of contents

edition 1979.12
chapter titles
discourses
event location duration media
1 आग ‍के फूल 1 Oct 1979 am Buddha Hall, Pune 1h 51min audio
2 जीवन एक रहस्य है 2 Oct 1979 am Buddha Hall, Pune 1h 40min audio
3 क्या तू सोया जाग अयाना 3 Oct 1979 am Buddha Hall, Pune 1h 49min audio
4 मन माया है 4 Oct 1979 am Buddha Hall, Pune 1h 50min audio
5 गाइ गाइ अब का कहि गाऊं 5 Oct 1979 am Buddha Hall, Pune 1h 49min audio
6 आस्तिकता ‍के स्वर 6 Oct 1979 am Buddha Hall, Pune 1h 50min audio
7 भगती ऐसी सुनहु रे भाई 7 Oct 1979 am Buddha Hall, Pune 1h 55min audio
8 सत्संग की मदिरा 8 Oct 1979 am Buddha Hall, Pune 1h 47min audio
9 संगति के परताप महातम 9 Oct 1979 am Buddha Hall, Pune 1h 49min audio
10 आओ और डूबो 10 Oct 1979 am Buddha Hall, Pune 1h 47min audio