Na Jaane Kaun Bagiyon S

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


न जाने कौन बगियों से


Sw Shailendra Saraswati has kindly shared the studio track and the lyrics.


Writers
Sw Shailendra Saraswati (aka Osho Shailendr, Dr. Shailendra Shekhar, ओशो शैलेन्द्र)
Lyrics
न जाने कौन बगियों से Na Jaane Kaun Bagiyon Se

न जाने कौन बगियों से, हवा लहराती आई है।
कहूँ क्या कौन कुसमों की, महक यह साथ लाई है।।

ये रस की धार हर जगह है, सांसों में फिजाओं में;
हर पेड़ों की छांवों में, कोयल की सदाओं में।
अरे ये सब दिशाओं में, वही भीतर, वही बाहर;
वही चहुँ ओर छाई है।

अनहद की गूंज सर्वव्यापी, बस्ती में निर्जन में;
प्रेम से पूर्ण हृदयों में, अहम से शून्य मन में।
अरे ये सृष्टि के कण-कण में, कोई अज्ञेय स्वर लहरी;
अनोखा गीत गायी है।

ये मीठी धुन अनजानी सी, लगती है पहचानी;
कभी आकाश वाणी सी, तो कभी अन्तर्वाणी।
यही ईश्वर की वाणी भी, यही शाश्वत यही अमृत;
प्रभु संदेशा लाई है।

na jaane kaun bagiyon se, hava laharaatee aaee hai.
kahoon kya kaun kusamon kee, mahak yah saath laee hai.

ye ras kee dhaar har jagah hai, saanson mein phijaon mein;
har pedon kee chhaanvon mein, koyal kee sadaon mein.
are ye sab dishaon mein, vahee bheetar, vahee baahar;
vahee chahun or chhaee hai.

anahad kee goonj sarvavyaapee, bastee mein nirjan mein;
prem se poorn hrdayon mein, aham se shoony man mein.
are ye srshti ke kan-kan mein, koee agyey svar laharee;
anokha geet gaayee hai.

ye meethee dhun anajaanee see, lagatee hai pahachaanee;
kabhee aakaash vaanee see, to kabhee antarvaanee.
yahee eeshvar kee vaanee bhee, yahee shaashvat yahee amrt;
prabhu sandesha laee hai.

Pyaar Kee Chhaanv Tale (music album)

Artists
Ma Amrit Priya
 ?
Recorded
2001 at Darpan Studio, Jabalpur (MP)
Released
2001

Audio - full length

02 08:39


Video