Nahin Jog, Nahin Jaap (नहीं जोग, नहिं जाप)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


‘ऐसन साहब कबीर, सलोना आप है। नहीं जोग नहिं जाप, पुन्‍न नहि पाप है। कबीर कहते हैं, ‘ऐसर साहब कबीर’ – कबीर के साहब ऐसे हैं, खुद तो प्‍यारे, सुंदर, अनूठे, अद्वितीय है- उनसे तुम भी पैदा हुए हो। ‘नहीं जोग नहीं जाप’ – न तो कोई जप करने की जरूरत है, न कोई जोग करने की जरूरत है न तो पुण्‍य करने की जरूरत है, न पाप से भयभीत होने की जरूरत है, क्‍योंकि उस परम की निकटता में नतो पाप बचता है, न पुण्‍य बचता है। ओशो द्वारा कबीर-वाणी पर दिए गए दस अमृत प्रवचनों के संकलन ‘कस्‍तूरी कुंडल बसै’ से लिए गए पांच (६-१०) प्रवचन इस पुस्‍तक में संकलित हैं। कबीर वाणी
notes
Discourses on five selected verses from the Kabīra-vāṇī, by Kabir, the 15th century Indian poet-mystic, published previously as chapters 1-5 of Kasturi Kundal Basai (कस्तूरी कुंडल बसै) and ch.11-15 of Suno Bhai Sadho (सुनो भई साधो).
time period of Osho's original talks/writings
Mar 11, 1975 to Mar 15, 1975 : timeline
number of discourses/chapters
5   (see table of contents)


editions

Blank.jpg

Nahin Jog, Nahin Jaap (नहीं जोग, नहिं जाप)

Year of publication : ≤1989
Publisher :
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes : Source: list of books from Boojhe Birla Koi (बूझे बिरला कोई) (1989 ed.)

Blank.jpg

Nahin Jog, Nahin Jaap (नहीं जोग, नहिं जाप)

Year of publication : ≤1993
Publisher : Diamond Pocket Books
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes : (Source: list of Diamond books in Abhinav Dharm (अभिनव धर्म).)

NahiJog2.jpg

Nahin Jog, Nahin Jaap (नहीं जोग, नहिं जाप)

(कबीर-वाणी) (Kabir-Vani)

Year of publication : 1998
Publisher : Diamond Books
ISBN 81-7182-245-2 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 126
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

NahiJog.jpg

Nahin Jog, Nahin Jaap (नहीं जोग, नहिं जाप)

Year of publication : 2008
reprint: 2011
Publisher : Diamond Books
ISBN 9798171822453 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 136
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

table of contents

edition 1998
chapter titles
discourses
event location duration media
1 अंतर्यात्रा के मूल सूत्र 11 Mar 1975, 8:00 Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 51min audio
2 धर्म कला है--मृत्यु की, अमृत की 12 Mar 1975, 8:00 Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 32min audio
3 मन के जाल हजार 13 Mar 1975, 8:00 Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 25min audio
4 विराम है द्वार राम का 14 Mar 1975, 8:00 Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 22min audio
5 धर्म और सम्प्रदाय में भेद 15 Mar 1975, 8:00 Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 34min audio