Nahin Sanjh Nahin Bhor (नहीं सांझ नहीं भोर)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


अब तक दुनिया में दो ही तरह के धर्म रहे हैं- ध्यान के और प्रेम के। और वे दोनों अलग-अलग रहे हैं। इसलिए उनमें बड़ा विवाद रहा। क्योंकि वे बड़े विपरीत हैं। उनकी भाषा ही उलटी है।
ध्यान का मार्ग विजय का, संघर्ष का, संकल्प का। प्रेम का मार्ग हार का, पराजय का, समर्पण का। उनमें मेल कैसे हो?
इसलिए दुनिया में कभी किसी ने इसकी फिकर नहीं की कि दोनों के बीच मेल भी बिठाया जा सके। मेरा प्रयास यही है कि दोनों में कोई झगड़े की जरूरत नहीं है। एक ही मंदिर में दोनों तरह के लोग हो सकते हैं। उनको भी रास्ता हो, जो नाच कर जाना चाहते हैं। उनको भी रास्ता हो, जो मौन होकर जाना चाहते हैं। अपनी-अपनी रुचि के अनुकूल परमात्मा का रास्ता खोजना चाहिए।
notes
Discourses given in Poona on Charandas, an 18th c mystic-poet and guru of Sahajo. See discussion for more on him.
time period of Osho's original talks/writings
Sep 11, 1977 to Sep 20, 1977 : timeline
number of discourses/chapters
10   (see table of contents)


editions

Nahin Sanjh 1978 cover.jpg

Nahin Sanjh Nahin Bhor (नहीं सांझ नहीं भोर)

Year of publication : May 1978
Publisher : Rajneesh Foundation
ISBN : none
Number of pages : 395
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :
publisher: Ma Yoga Laxmi, Secretary, Rajneesh Foundation, Shree Rajneesh Ashram, 17, Koregaon Park, Poona-1
copy right: Rajneesh Foundation, 1978
first edition: May 1978, three thousand copies
price: fifty rupees
printer: Sw Vivek Teerth Bharti, Ashivarda Printers, 4/25 Agarkar Nagar, Poona-411001
editing: Sw Yoga Chinmaya
compiling: Ma Amrit Mukti

NahinSanjh-2.jpg

Nahin Sanjh Nahin Bhor (नहीं सांझ नहीं भोर)

चरणदास वाणी पर प्रवचन (Charandas Vani Par Pravachan)

Year of publication : 2013
Publisher : Osho Media International
ISBN 978-81-7261-283-2 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 346
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :

NahinSanjh-2.jpg

Nahin Sanjh Nahin Bhor (नहीं सांझ नहीं भोर)

चरणदास वाणी पर प्रवचन (Charandas Vani Par Pravachan)

Year of publication : 2018
Publisher : Osho Media International
ISBN 978-0-88050-881-0 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 655
Hardcover / Paperback / Ebook : E
Edition notes :

table of contents

edition 1978.05
chapter titles
discourses
event location duration media
1 भक्त का अन्तर्जीवन 11 Sep 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 42min audio
2 प्रयास और प्रसाद का मिलन 12 Sep 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 45min audio
3 जग माहीं न्यारे रहौ 13 Sep 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 37min audio
4 सद्गुरुओं की निन्दा 14 Sep 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 36min audio
5 भक्ति की कीमिया 15 Sep 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 36min audio
6 पात्रता का अर्जन 16 Sep 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 38min audio
7 गुरु-कृपा-योग 17 Sep 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 47min audio
8 संत क्यों बोलते हैं 18 Sep 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 42min audio
9 मुक्ति का सूत्र 19 Sep 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 38min audio
10 अभिनय अर्थात् अकर्ता-भाव 20 Sep 1977 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 34min audio