Nayee Kranti Ki Ruparekha (नयी क्रान्ति की रूपरेखा)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


ओशो के प्रखर विचारों ने, ओजस्‍वी वाणी ने मनुष्‍यता के दुश्‍मनों, संप्रदायों, मठाधीशों, राजनेताओं पर जोरदार प्रहार किया। प्रस्‍तुत पुस्‍तक में नई क्रांति का बिगुल भी फूंकते हैं। इसकी रूपरेखा तैयार करते हुए वे गांधी के चिंतन पर भी सवाल उठाते हैं तथा उसे नैतिक पर अवैज्ञानिक कहते हैं। साथ ही भौतिक समृद्धि को अध्‍यात्‍म का आधार बताते हैं इसके लिए वे वैज्ञानिक चिंतन का महत्‍व देते हैं।
notes
Previously published as ch.9-11 & 15-17 of Dekh Kabira Roya (देख कबीरा रोया).
First three chapters originally published as Gandhiwaad: Ek Aur Sameeksha (गांधीवाद : एक और समीक्षा).
time period of Osho's original talks/writings
Feb 13, 1969 to Jul 18, 1970 : timeline
number of discourses/chapters
6   (see table of contents)


editions

Blank.jpg

Nayee Kranti Ki Ruparekha (नयी क्रान्ति की रूपरेखा)

Year of publication : ≤1993
Publisher : Diamond Pocket Books
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes : (Source: list of Diamond books in Abhinav Dharm (अभिनव धर्म).)

Nayee Kranti Ki Ruparekha1.jpg

Nayee Kranti Ki Ruparekha (नयी क्रान्ति की रूपरेखा)

Year of publication : 2003
Publisher : Diamond Pocket Books
ISBN 81-7182-271-1 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 176
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

Nayee Kranti Ki Ruparekha2.jpg

Nayee Kranti Ki Ruparekha (नयी क्रान्ति की रूपरेखा)

Year of publication :
Publisher : Diamond Pocket Books
ISBN 979-81-7182-271-2 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 176
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

Nayee Kranti Ki Ruparekha2.jpg

Nayee Kranti Ki Ruparekha (नयी क्रान्ति की रूपरेखा)

Year of publication : 2015
Publisher : Diamond Pocket Books
ISBN 978-81-7182-271-3 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 176
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

table of contents

editions 2003, 2015
chapter titles
discourses & interviews
event location duration media
1 गांधी का चिंतन अवैज्ञानिक है 14 Feb 1969 Baroda (now Vadodara) 0h 55min audio
2 मेरी दृष्टि में रचनात्मक क्या है 14 Feb 1969 Baroda (now Vadodara) 0h 58min audio
3 गांधीवाद ही नहीं, वाद मात्र के विरोध में हूं 13 Feb 1969 Baroda (now Vadodara) 1h 4min audio
4 भौतिक समृद्धि : अध्यात्म का आधार 5 May 1970 Nargol 0h 52min audio
5 विध्वंस : सृजन का प्रारंभ 22 May 1970 Surat 1h 3min audio
6 असली अपराधी : राजनीतिज्ञ 18 Jul 1970 Bombay 1h 40min audio