Pad Ghunghru Bandh (पद घुंघरू बांध)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


notes
A book of 150 letters written by Osho in Hindi to his disciples, friends and lovers. Title translates roughly as "With Bells on the Feet". It was apparently published once, in the early 70s in Mumbai. Most dates and recipients are known, and most were written in Feb and Mar 1971.
This same title was used for another book in Pune Two, a merging together of two series on Meera, talks for which were given in the 70s in Pune One. See Pad Ghunghru Bandh (पद घुंघरू बांध) (20 talks) and Talk:Maine Ram Ratan Dhan Payo (मैंने राम रतन धन पायो) for details on that.
Letters 20, 24, 44, 57, 74, 78, 108, 110, 135, 145 and 149 also published in Rajneesh Dhyan Yog (रजनीश ध्यान योग).
Letters 75, 77, 107, 113, 116, 121 and 136 also published in ch.10 of Nav-Sannyas Kya? (नव-संन्यास क्या?) as letters 24-30 respectively.
Letters 104, 142 and 149 also published in Prem Ke Swar (प्रेम के स्वर) as letters 24, 25 and 27.
Two letters, 89 and 92, are translated into English in CD-ROM under title Letters.
time period of Osho's original talks/writings
~ Jul 1966 to Apr 1971 : timeline
number of discourses/chapters
150   (see table of contents)


editions

Pad Ghunghru Bandh 1974 cover.jpg

Pad Ghunghru Bandh (पद घुंघरू बांध)

Year of publication : 1974
Publisher : Motilal Banarsidass
ISBN : none
Number of pages : 180
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

Pad Ghunghru Bandh2.jpg

Pad Ghunghru Bandh (पद घुंघरू बांध)

Year of publication :
Publisher : Divyansh Publications
ISBN 978-93-84657-49-9 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 174
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :

table of contents

edition 1974
chapter titles
letters
event location addressee
1 अहं अज्ञान है--प्रेम ज्ञान है 1966? unknown Sadhvi Chandana
2 प्यास की पीड़ा ही अन्तत: प्राप्ति बन जाता है 6 Jul 1966 unknown Sadhvi Chandana
3 मृत परम्पराओं व दासताओं से मुक्ति 15 Jul 1966 unknown Sadhvi Chandana
4 सत्य के पथ पर अडिग और अदम्य साहस आवश्यक 17 Aug 1966 unknown Sadhvi Chandana
5 नये जन्म की प्रसव-पीड़ा--रिक्तता व अभाव का साक्षात् 10 Sep 1966 unknown Sadhvi Chandana
6 मन के घास-फूसों की सफाई 10 Oct 1966 unknown Sadhvi Chandana
7 धन का अन्धापन 7 Oct 1967 unknown Sadhvi Chandana
8 विश्वास-अविश्वास के द्वन्द्व से शून्य मन 10 Aug 1968 unknown Sadhvi Chandana
9 साधुता--कांटों में रह कर फूल बने रहने की क्षमता 10 Sep 1968 unknown Sadhvi Chandana
10 समय के साथ नया होना ही जीवन है 9 Jan 1969 unknown Sadhvi Chandana
11 ‘जो है’ उसी का नाम ईश्वर है 5 Mar 1969 unknown Mr Pushkar Gokani, Dwarka, Gujarat
12 असुरक्षा का स्रोत--सुरक्षा की अति आतुरता 5 Jan 1971 Bombay Ma Yoga Kranti, Jabalpur
13 जीओ पल-पल--न टालो कल पर 7 Jan 1971 Bombay Ma Yoga Kranti, Jabalpur
14 ज्ञान-सूत्र--“यह भी बीत जायेगा” 10 Jan 1971 Bombay Ma Yoga Kranti, Jabalpur
15 प्रार्थना में शब्द नहीं--सुने जाते हैं भाव 14 Jan 1971 Bombay Sw Yoga Chinmaya, Bombay
16 धर्म अभिव्यक्ति की सतत रूपान्तरण प्रक्रिया 25 Jan 1971 Bombay Sw Yoga Chinmaya, Bombay
17 ईर्ष्या के सूक्ष्म हैं यात्रा-पथ 27 Jan 1971 Bombay Sw Yoga Chinmaya, Bombay
18 यही जवाब है इसका कि कुछ जवाब नहीं 28 Jan 1971 Bombay Mr Indraraj Anand, Bombay
19 स्वीकार से--शान्ति, शून्यता और रूपान्तरण 28 Jan 1971 Bombay Mr Indraraj Anand, Bombay
20 प्रतीक्षारत तैयारी--विस्फोट को झेलने की 29 Jan 1971 Bombay Sw Yoga Chinmaya, Bombay
21 अहंकार चुराने वाले चोर 29 Jan 1971 Bombay Mr Indraraj Anand, Bombay
22 मिटने की तैयारी रख 29 Jan 1971 Bombay Mrs Neela, Vileparle, Bombay
23 एक ही भासता है अनेक 29 Jan 1971 Bombay Mr Rajnikant, Rajkot, Gujarat
24 स्वीकार से दुःख का विसर्जन 29 Jan 1971 Bombay Mr Dasbhai Patel, Vijapur, dist. Mehsana, Gujarat
25 जन्मों का अन्धेरा और ध्यान का दिया 29 Jan 1971 Bombay Mr Lala Sunderlalji, Jawahar Nagar, Delhi-6
26 प्रार्थना, श्रद्धा, समर्पण--बाह्य नहीं आन्तरिक घटनायें 10 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Laxmi, Bombay
27 आनन्द का राज--न चाह सुख की, न भय दुख का 10 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Kranti, Jabalpur
28 शब्दों की यात्रा में सत्य की मृत्यु 11 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Kranti, Jabalpur
29 जीवन है--दुर्लभ अवसर 12 Feb 1971 Bombay Sau. Rama Patel, Ahmedabad
30 एकमात्र सम्पत्ति--परमात्म--श्रद्धा 12 Feb 1971 Bombay Sw Yoga Chinmaya, Bombay
31 प्रकाश--किरण से सूर्य की ओर 14 Feb 1971 Bombay Mr Vinukumar Ch. Suthar, Chacharia, Patan, North Gujarat
32 सुवास--आन्तरिक निकटता की 14 Feb 1971 Bombay Sau. Mrinaal Joshi, 1024, Sadashiv Peth, Poona
33 ध्यान की सरलता--निःसंशय, निर्णायक व संकल्पवान चित्त के लिये 14 Feb 1971 Bombay Mr Ranulal Saklecha, Mishrilal Ranulal Saklecha company, Sadar Bazar, Dhamtari, M.P.
34 अदृश्य, अरूप, निराकार की खोज 14 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Priya, Ajol, Gujarat
35 आनन्दमग्न भाव से नाचती, गाती, निर्भार चेतना का ही ध्यान में प्रवेश 15 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Priya, Ajol
36 शून्य, शान्त व मौन में--वर्षा अनुकम्पा की 15 Feb 1971 Bombay Sw Chaitanya Bharti, Delhi
37 चमत्कार--‘न-होने’ पर भी ‘होने’ का 15 Feb 1971 Bombay Mrs Urmila Khotan, per - Mr Jwala Prasad Khetan, Om Engineering com., Kuda Ghat, Gorakhpur
38 असार्थक की अग्नि-परीक्षा 15 Feb 1971 Bombay Mr Brahmadatta Dikshit, Udaipur, Rajasthan
39 श्रद्धा के दुर्लभ अंकुर 15 Feb 1971 Bombay Sau. Mrinaal Joshi, Poona
40 ध्यान में प्रभु--इच्छा का उद्घाटन 15 Feb 1971 Bombay Sw Brahma Bharti, Pali, Marwar junction, Rajasthan
41 प्रतीक्षा में ही राज़ है परम उपलब्धि का 15 Feb 1971 Bombay Sw Krishna Kabeer, Ahmedabad
42 स्वयं को तैयार करना--श्रद्धा से, शान्ति से, संकल्प से 15 Feb 1971 Bombay Mr Manakchand Lunavat, Phal Bazar, Jalna, Maharashtra
43 अभिशाप में भी वरदान खोजो 15 Feb 1971 Bombay Sw Krishna Yashodhar, per - Mr Dilip Sawant, 517, Budhwar Peth, Poona-2
44 अवलोकन--वृत्तियों की उत्पत्ति, विकास व विसर्जन का 15 Feb 1971 Bombay Sw Krishna Yashodhar, Poona
45 सिद्धान्त--क्रान्ति का अन्त है 15 Feb 1971 Bombay Mr Chandrakant N. Patel, Baroda, Gujarat
46 प्रतिक्रियावादी तथाकथित क्रान्तिकारी 15 Feb 1971 Bombay Mr Chandrakant N. Patel, Baroda, Gujarat
47 सत्ता सदा ही क्रान्ति विरोधी है 15 Feb 1971 Bombay Mr Chandrakant N. Patel, Baroda, Gujarat
48 ध्यान है--द्रष्टा, अकर्ता, अभोक्ता रह जाना 15 Feb 1971 Bombay Mr Dhanvant Singh Grovar, per : Mr Pratapsingh, Santokhisingh, Bazar Maai Sawan, Amritsar, Punjab
49 समग्र जिज्ञासा में प्रश्न का गिर जाना 16 Feb 1971 Bombay Sw Krishna Yashodhar, Poona
50 खोना ही ‘उसे’ खोजने की विधि है 16 Feb 1971 Bombay Sw Chaitanya Bharti, Delhi
51 धैर्य पूर्वक पोषण--क्रान्ति के गर्भाधान का 16 Feb 1971 Bombay Mr Chandrakant N. Patel, Baroda, Gujarat
52 आत्म-विश्वास से खटखटाओ--प्रभु के द्वार को 16 Feb 1971 Bombay Sw Anand Amrit, Ahmedabad
53 अनजाना समर्पण 16 Feb 1971 Bombay Sau. Mrinaalini Joshi, Poona
54 तुम्हारी समस्त सम्भावनाएँ मेरे समक्ष साकार हैं 16 Feb 1971 Bombay Sw Krishna Kabeer, Ahmedabad
55 सूक्ष्म और अदृश्य कार्य 16 Feb 1971 Bombay Mr Rajendra, Rajendra Bicycle Industries, Gill Road, plot-Narayan Das, Ludhiana, Punjab
56 प्रभु-मन्दिर की झलकें--ध्यान के द्वार पर 16 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Priya, Vishvanid, Ajol, Gujarat
57 अनुभूति में बुद्धि के प्रयास बाधक 16 Feb 1971 Bombay Kumari Rajani Kelkar, "Prabhu Chhaya", 140, Shaniwar Peth, Poona-30
58 कामना दुख है, क्योंकि कामना दुष्पूर है 16 Feb 1971 Bombay Sau. Rama Patel, Ahmedabad
59 प्रभु-कृपा की अमृत वर्षा और हृदय का उलटा पात्र 16 Feb 1971 Bombay Sw Anand Vijay, per - Pushpa Katpis Bhandar, company: Kaluram Pushpa Kumar, Jawahar Ganj, Jabalpu
60 जन्मों का पुराना--विस्मृत परिचय 17 Feb 1971 Bombay Sau. Sadhana Belapurkar, Poona
61 आनन्द के आंसुओं से परिचय 17 Feb 1971 Bombay Sau. Sadhana Belapurkar, Poona
62 प्रभु-प्रेम को पागल मानने वाले लोगों से 17 Feb 1971 Bombay Sw Anand Vijay, Jabalpur
63 हृदय है अन्तर्द्वार--प्रभु मन्दिर का 17 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Bhagwati, Bombay
64 पात्रता का बोध--सबसे बड़ी अपात्रता 17 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Bhagwati, Bombay
65 प्रमाद है भ्रूण-हत्या--विराट सम्भावनाओं की 17 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Bhagwati, Bombay
66 चाह और अपेक्षा हैं जननी दुख की 17 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Taru, Bombay
67 रूपान्तरण के पूर्व की कसौटियाँ 17 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Taru, Bombay
68 ज्ञानी का शरीर भी मन्दिर हो जाता है 17 Feb 1971 Bombay Sau. Mrinaal Joshi, Poona
69 भेद है अज्ञान में 17 Feb 1971 Bombay Sau. Mrinaal Joshi, Poona
70 जीवन सत्य की ओर केवल मौन इशारे सम्भव 17 Feb 1971 Bombay Sw Krishna Kabeer, Ahmedabad
71 स्वयं रूपान्तरण से गुजर कर ही समझ सकोगी 17 Feb 1971 Bombay Sau. Mrinaal Joshi, Poona
72 ज्ञान की गति है--अनूठी, सूक्ष्म और बेबूझ 18 Feb 1971 Bombay Sw Krishna Saraswati, Ahmedabad
73 शुभ आशीषों की शीतल छाया में 18 Feb 1971 Bombay Sau. Sadhana Belapurkar, Poona
74 ऊर्जा-जागरण से देह-शून्यता 18 Feb 1971 Bombay Sau. Sadhana Belapurkar, Poona
75 संन्यास है--मन से मनातीत में यात्रा 18 Feb 1971 Bombay Sw Anand Vijay, Jabalpur
76 ध्यान--रूपान्तरण की विधायक खोज 18 Feb 1971 Bombay Sw Anand Vijay, Jabalpur
77 द्वन्द्व अज्ञान में ही है 18 Feb 1971 Bombay Sau. Sadhana Belapurkar, Poona
78 काम-ऊर्जा का रूपान्तरण--संभोग में साक्षीत्व से 18 Feb 1971 Bombay Mrs Vimala Sinhal, now Ma Yoga Vibhuti, Neemuch, M.P.
79 आत्म-सृजन का श्रम करो 18 Feb 1971 Bombay Mr Dipak Kumar Dikshit, 12/346, Bellasis Bridge, Tardev, Bombay-3
80 मन का भिखमंगापन 18 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Taru, Bombay
81 स्वयं का मिटना ही एक-मात्र तप है 19 Feb 1971 Bombay Sw Krishna Saraswati, Ahmedabad
82 वही दे सकते हैं--जो कि हम हैं 19 Feb 1971 Bombay Sw Krishna Saraswati, Ahmedabad
83 स्वर्ग और नर्क--एक ही तथ्य के दो छोर 19 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Taru, Bombay
84 अधैर्य से साधना में विलम्ब 19 Feb 1971 Bombay Sw Yoga Chinmaya, Bombay
85 नासमझदारों की समझ 19 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Kranti, Jabalpur
86 आदमी ऐसा ही जीता है--तिरछा-तिरछा 20 Feb 1971 Bombay Sw Krishna Saraswati, Ahmedabad
87 समग्रता से किया गया कोई भी कर्म अतिक्रमण बन जाता है 20 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Laxmi, Bombay
88 चाह से मुक्ति ही मोक्ष है 20 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Laxmi, Bombay
89 अन्तर-अभीप्सा ही निर्णायक है 20 Feb 1971 Bombay Ma Dharm Jyoti, Bombay
90 सत्य की खोज : लम्बी यात्रा, अशेष यात्री 22 Feb 1971 Bombay Sw Yoga Chinmaya, Bombay
91 अज्ञात को ज्ञात से समझने की असफल चेष्टा 21 Feb 1971 Bombay Sau. Durga Jain, Bombay
92 हर पल जीता हूं पूरा 21 Feb 1971 Bombay Ma Dharm Jyoti, Bombay
93 जिन्दगी तर्क और गणित से बहुत अधिक है 21 Feb 1971 Bombay Sw Krishna Saraswati, Ahmedabad
94 जीवन की धन्यता है--अभिव्यक्ति में--स्वयं की, स्व-धर्म की 21 Feb 1971 Bombay Ma Krishna Karuna, Bombay
95 सम-चित्त में अद्वैत स्वरूप का बोध 22 Feb 1971 Bombay Sw Yoga Chinmaya, Bombay
96 संकल्प पूर्ण हुआ कि शून्य हुआ 24 Feb 1971 Bombay Ma Anand Madhu, Ajol, Gujarat
97 साक्षी की प्रत्यभिज्ञा ही ध्यान है 24 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Prem, Ajol, Gujarat
98 साधन के मार्ग पर शत्रु भी मित्र है 24 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Yasha, Ajol, Gujarat
99 शान्त साक्षी-भाव में ही डूब 24 Feb 1971 Bombay Mrs Urmila Singha, 107 rugby ground, Jabalpur
100 आदमी की कुशलता--वरदानों को भी अभिशाप में बदलने की 24 Feb 1971 Bombay Sw Krishna Chaitanya, Ajol, Gujarat
101 गहरा खेल शब्दों का 24 Feb 1971 Bombay Sw Krishna Saraswati, Ahmedabad
102 पवित्र प्रार्थना--आँसुओं में नहाई 24 Feb 1971 Bombay Mr Ratilal Bhagwan Ji Vasaani, L. C. Vaydaj house, Kaghas Chok, New Itwari Road, Nagpur
103 पीड़ा को उत्सव बना लेने की कला 25 Feb 1971 Bombay Mrs Tripta Singal, Jalandhar
104 वही है, वही है--सब ओर वही है 25 Feb 1971 Bombay Ms Kusum, Ludhiana, Punjab
105 संकल्प के पंख--साधना में उड़ान 25 Feb 1971 Bombay Mr Sardari Lal Sahagal, Amritsar, Punjab
106 मुझसे मिलने का निकटतम द्वार--गहरा ध्यान 25 Feb 1971 Bombay Mrs Raj Sharma, per - Mr Sardari Lal Sharma, 546/4 Pratapgali, Pratap Bazar, Amritsar, Punjab
107 अन्तः संन्यास का संकल्प 25 Feb 1971 Bombay Mrs Sumitra Ji, per - Mr Brajbhushandas-Narayandas Kansara, Anand Kutir, Lunsikui, Gujarat
108 क्रोध के दर्शन से क्रोध की ऊर्जा का रूपान्तरण 25 Feb 1971 Bombay Sw Anand Ashok, Mr A. N. Pardeshi, F/4, servants quarter, Dapodi, Poona-12
109 स्वरहीन संगीत में डूबो 25 Feb 1971 Bombay Sw Anand Vijay, Jabalpur
110 समष्टि को बाँट दिया ध्यान ही समाधि बन जाता है 25 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Yasha, Ajol, Gujarat
111 प्रभु द्वार पर हुई देर भी शुभ है 26 Feb 1971 Bombay Dr. B. G. Avasthi, now Sw Prem Vijay, Eastern Dhamapur, Jabalpur
112 समझ (Understanding) ही मुक्ति है 26 Feb 1971 Bombay Mrs Susheela Devi, m. no. 5366/4 near post office, Punjabi Muhalla, Ambala camp, Punjab
113 संन्यास--रूपान्तरण की कमियाँ 26 Feb 1971 Bombay Sw Vijay Murti, 1759 Laxmi Road, 2nd Rosary, Poona
114 उसका होना ही उसका ज्ञान भी है 26 Feb 1971 Bombay Mr Premsingh, village and post Mano Langa, dist. Kapurthala, Punjab
115 जागे बिना सत्य से परिचय नहीं 26 Feb 1971 Bombay Mr Suresh N. Jaani, 1 Mukundkunj Society, Narayanpura, Ahmedabad-13
116 साधना को तो सिद्धि तक पहुँचाना ही है 26 Feb 1971 Bombay Ma Dharm Saraswati, room no. 24, M.E.S. College Hostel, Karve Road, Poona-4
117 सदा स्मरण रखें--जीवन है एक खेल 26 Feb 1971 Bombay Mr Premkumar Gandhi, Gandhi Street, Chandrapur, Maharashtra
118 साहस--अज्ञात में छलांग का 26 Feb 1971 Bombay Ms Chitra Jaani, 13, Subhash Nagar, Ahmedabad-4
119 जिन खोजा तिन पाइयाँ 26 Feb 1971 Bombay Mr Indrasharma, Gokul Peth, Nagpur, Maharashtra
120 अथक श्रम--और परीक्षा धैर्य की 26 Feb 1971 Bombay Ms Leela Javerilal, Zaveri residence, Kochin-2
121 जीवन को उत्सव बना लेने की कला संन्यास है 26 Feb 1971 Bombay Sw Bhakti Vedant, Ahmedabad
122 प्रभु-पथ से लौटना नहीं है 26 Feb 1971 Bombay Ma Yoga Radha, Vishvanid, Ajol, Gujarat
123 स्वयं को खोकर ही पा सकोगे सर्व को 26 Feb 1971 Bombay Mr Mahendra Prasad Jaysaval, Ishipur, dist. Bhagalpur, Bihar
124 शून्य में नृत्य और स्वरहीन संगीत 26 Feb 1971 Bombay Mr Ramkrishna Kathecha, Rajkot-2
125 ‘न-करना’ है करने की अन्तिम अवस्था 26 Feb 1971 Bombay Mr Poornachand, Fine Arts Press, Pratap Bazar, Amritsar, Punjab
126 अहंकार की सीमा 4 Mar 1971 Bombay Sw Geet Govind, Ahmedabad-9
127 स्वयं को समझो 5 Mar 1971 Bombay Sw Geet Govind, Ahmedabad-9
128 एक-मात्र यात्रा--अन्तस् की 5 Mar 1971 Bombay Ma Yoga Uma, Poona
129 पर करो--कुछ तो करो 5 Mar 1971 Bombay Mrs Vimala Sinhal, now Ma Yoga Vibhuti, Ratan residence, v. no. 35 Neemuch Cant, Neemuch, M.P.
130 पहले समझो ही 5 Mar 1971 Bombay Mr Shankar B. Rami, Ahmedabad
131 अति सूक्ष्म हैं--अहंकार के रास्ते 5 Mar 1971 Bombay Sau. Mrinaal Joshi, Poona
132 अपनी चिन्ता पर्याप्त है 6 Mar 1971 Bombay Mr Shankar B. Rami, Deluxe Garment, Ratan Pol, Zaverivad barrier, Ahmedabad-1
133 फूल, काँटे और साधना 6 Mar 1971 Bombay Sw Vijay Murti, Poona-2
134 जीवन है एक चुनौती 6 Mar 1971 Bombay Ma Prema Nivedita, Ghatkopar, Bombay
135 छलांग--बाहर--शरीर के, संसार के, समय के 6 Mar 1971 Bombay Ma Dharm Saraswati, Poona-4
136 स्वयं की खोज ही संन्यास है 6 Mar 1971 Bombay Ma Yoga Uma, Poona
137 पागल होने की विधि है यह--लेकिन प्रज्ञा में 6 Mar 1971 Bombay Sw Anand Vijay, Jabalpur
138 प्रभु-प्रकाश की पहली किरण 6 Mar 1971 Bombay Kumari Nayana, per - Mr Manubhai N. Bora, 5, Sangam Society, Surendranagar, Guj.
139 अस्वस्थता को भी अवसर बना लो 6 Mar 1971 Bombay Ms Madhuri, per - Mr Pushkarbhai Gokani, Dwarka
140 दिन-रात की धूप-छाँव स्वयं को भूल मत जाना 6 Mar 1971 Bombay Ms Jayshree, per - Mr Pushkar Bhai Gokani, Jawahar Road, Dwarka, Guj.
141 नियति का बोध परम आनंद है 6 Mar 1971 Bombay Sw Geet Govind, Ahmedabad-9
142 स्वनिर्मित कारागृहों में कैद आदमी 7 Mar 1971 Bombay Mrs Kusum, Ludhiana
143 समय रहते जाग जाना आवश्यक है 7 Mar 1971 Bombay Ms Neelam, Ludhiana
144 अमूर्च्छा का आक्रमण--मूर्च्छा पर 7 Mar 1971 Bombay Sau. Mrinaal Joshi, Poona
145 कुछ भी हो--ध्यान को नहीं रोकना है 7 Mar 1971 Bombay Sw Ageh Bharti, Jabalpur
146 देखो स्थिति और हो जाने दो समर्पण 8 Mar 1971 Bombay Sw Ageh Bharti, Jabalpur
147 नाचो-गाओ और प्रभु धुन में डूबो 7 Mar 1971 Bombay Sw Anand Vijay, Jabalpur
148 आनंद है महामंत्र 18 Apr 1971 Bombay Mr Kachu, (Mr Bhalchandra Turkhiya), Poona-2
149 जीवन नृत्य है 13 Mar 1971 Bombay Ms Kusum, Ludhiana, Punjab
150 पद घुंघरू बाँध 8 Mar 1971 Bombay Ma Yoga Meera, Junagadh