Prem Hai Dwar Prabhu Ka (प्रेम है द्वार प्रभु का)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


जीवन के विभिन्न पहलुओं पर ओशो द्वारा दिए गए सात अमृत प्रवचनों का संकलन ।
"जहां प्रेम है वहां भय की कोई संभावना नहीं। अगर हम भय को निकालने की कोशिश करेंगे, तो हम ज्यादा से ज्यादा जड़ता को उपलब्ध हो सकते हैं, अभय को नहीं। अगर हम प्रेम को जन्माने की कोशिश करें, तो भय प्रेम के जन्म के साथ ही वैसे ही नष्ट हो जाता है"
notes
Title translates as "Love is the Door to God". Talks were given in Mumbai, Nargol and possibly elsewhere in 1968 and possibly later. Audio and e-book versions are available. See discussion for more on all this and TOC's based on audio discourse titles and the e-book.
The end of ch.2 is available as a manuscript image at Jeevan Sampada Ka Adhikar (जीवन सम्पदा का अधिकार).
time period of Osho's original talks/writings
Jan 21 1968 to May 6 1968 + ? ** : timeline
number of discourses/chapters
4, 7 or 9


editions

Blank.jpg

Prem Hai Dwar Prabhu Ka (प्रेम है द्वार प्रभु का)

Year of publication : 1971
Publisher : Motilal Banarsidass
Edition no. : 1
ISBN
Number of pages : 249
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

Prem Hai Dwar Prabhu Ka.jpg

Prem Hai Dwar Prabhu Ka (प्रेम है द्वार प्रभु का)

Year of publication : 1973
Publisher : Motilal Banarsidass
Edition no. : 2
ISBN : none
Number of pages : 249
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

Prem Hai Dwar Prabhu Ka 1974 cover.jpg

Prem Hai Dwar Prabhu Ka (प्रेम है द्वार प्रभु का)

Year of publication : Reprint: 1974
Publisher : Motilal Banarsidass, Delhi
Edition no. : 1
ISBN : none
Number of pages : 249
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

Blank.jpg

Prem Hai Dwar Prabhu Ka (प्रेम है द्वार प्रभु का)

Year of publication : 1974
Publisher : Mayur Paperbacks, Delhi
Edition no. :
ISBN
Number of pages : 234
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :