Rajneesh Dhyan Yog (रजनीश ध्यान योग)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


translated from
mostly Hindi, except a few parts from discourse English series: Dynamics of Meditation, The Book of the Secrets, Vol 1, The Ultimate Alchemy, Vol 1; and translations of letters from English: The Gateless Gate (letters 20, 21 and 28), The Silent Music (letters 4, 7, 22 and 30), What Is Meditation? (letter 36).
notes
This book appears to be an early collection of wisdom and methodology about meditation, including letters to meditators, giving practical guidance about the issues that arise in connection with meditation. It may be an early ancestor of Osho Dhyan Yog (ओशो ध्यान योग). The wiki formerly called it Rajanisa Dhyana Yoga (राजनीसा ध्याना योग). See discussion for an explanation about the name change and some thoughts on its place in the lineage of meditation compilations.
Chapter 2, 'Steps of Meditation Practice', was compiled from Osho books and magazines available till that time, most quotes are unidentified yet.
Chapters 1, 4 and 5 includes letters, which previously published in:
time period of Osho's original talks/writings
Nov 1, 1963 to Sep 20, 1976 : timeline
number of discourses/chapters
7 plus appendix   (see table of contents)
? (1989 ed.)


editions

Rajneesh Dhyan Yog 1977 cover.jpg

Rajneesh Dhyan Yog (रजनीश ध्यान योग)

Year of publication : Jul 1977
Publisher : Om Rajneesh Dhyan Kendra Prakashan
ISBN : none
Number of pages : 448
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :

Rajneesh Dhyan Yog 1977 cover.jpg

Rajneesh Dhyan Yog (रजनीश ध्यान योग)

Year of publication : Jul 1977
Publisher : Om Rajneesh Dhyan Kendra Prakashan
ISBN : none
Number of pages : 448
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

Blank.jpg

Rajneesh Dhyan Yog (रजनीश ध्यान योग)

Year of publication : 1980
Publisher : Rajneesh Foundation
ISBN
Number of pages : 190
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes : (This is questionable edition.)

Rajneesh Dhyan Yog 1989.jpg

Rajneesh Dhyan Yog (रजनीश ध्यान योग)

Year of publication : 1989
Publisher :
ISBN
Number of pages : 221
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

Blank.jpg

Rajneesh Dhyan Yog (रजनीश ध्यान योग)

Year of publication : ≤1993
Publisher : Diamond Pocket Books
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes : (Source: list of Diamond books in Abhinav Dharm (अभिनव धर्म).)

table of contents

edition 1977.07
chapter titles
source of the compilation
1 ध्यान : एक वैज्ञानिक दृष्टि
ध्यान : एक वैज्ञानिक दृष्टि
  1. ध्यान है भीतर झाँकना
  2. ध्यान है अमृत -- ध्यान है जीवन
  3. ध्यान की अनुपस्थिति है मन
  4. मन का विसर्जत -- साक्षी-भाव से
  5. सत्योपलब्धि के मार्ग अनन्त हैं
  6. सब मार्ग ध्यान के ही विविध रूप हैं
  7. ध्यान आया कि मन गया

Hasiba Kheliba Dhariba Dhyanam ~ 02
Prem Ke Phool ~ 131
Dhai Aakhar Prem Ka ~ 047
Antarveena ~ 061
Dhai Aakhar Prem Ka ~ 103
Antarveena ~ 138
Antarveena ~ 127
Antarveena ~ 054
2 ध्यान सोपान
ध्यान सोपान : प्रवेश के पूर्व
  1. रजनीश-ध्यान-योग
  2. कुण्डलिनी ध्यान
  3. मण्डल ध्यान
  4. नटराज ध्यान
  5. कीर्तन ध्यान
  6. सूफी दरवेश नृत्य
  7. नाद-ब्रह्म ध्यान
  8. देववाणी ध्यान
  9. प्रार्थना ध्यान
  10. सामूहिक प्रार्थना ध्यान
  11. खिलखिला के हँसना
  12. रात्रि ध्यान : ओऽऽऽ
  13. जिबरिश
  14. शिवनेत्र ध्यान
  15. गौरीशंकर ध्यान
  16. अग्निशिखा ध्यान
  17. त्राटक ध्यान--१
  18. त्राटक ध्यान--२
  19. त्राटक ध्यान--३
  20. ओंकार साधना
  21. मन्त्र साधना

[editor's words]
[perhaps editor's words only]
[editor's words]
[editor's words]
[unknown source of quote + editor's words]
[editor's words (based on Dhyan Ke Kamal ~ 02 event)]
perhaps editor's words only
editor's words
Yoga The Alpha and Omega Vol 03 ~ 06 + [editor's words]
The Hidden Harmony ~ 09, The Great Nothing ~ 02
[editor's words]
Kathopanishad ~ 05 + [editor's words]
Kathopanishad ~ 01
[perhaps editor's words only]
[editor's words]
[editor's words]
[perhaps editor's words only]
[editor's words]
The Ultimate Alchemy Vol 1 ~ 06
[perhaps editor's words only]
Piv Piv Laagi Pyas ~ 05
Shiv-Sutra ~ 10
3 साधना सोपान
साधना सोपान : प्रवेश के पूर्व
  1. निष्क्रिय ध्यान--१
  2. निष्क्रिय ध्यान--२
  3. बहना, मिटना, तथाता
  4. कल्पना-भोग
  5. सन्तुलन ध्यान--१
  6. सन्तुलन ध्यान--२
  7. मूलबंध : ब्रह्मचर्य-उपलब्धि की सरलतम विधि
  8. यौन-सुद्रा : काम-ऊर्जा के ऊर्ध्वगमन की एक सरल विधि
  9. निश्चल-ध्यान-योग
  10. अनापानसती-योग
  11. इक्कीस दिवसीय मौन
  12. स्वप्न में सचेतन प्रवेश की दो विधियाँ
  13. आत्मोपलब्धि की पाँच तान्त्रिक विधियाँ
  14. सजग मृत्यु और शरीर से अलग होने की विधि
  15. जाति-स्मरण के प्रयोग
  16. प्राण साधना
  17. अन्तर्प्रकाश साधना
  18. अन्तर्वाणी साधना
  19. संयम साधना--१
  20. संयम साधना--२
  21. शान्ति-सूत्र : नियति की स्वीकृति

[editor's words]
Sadhana Path ~ 02
Main Mrityu Sikhata Hun ~ 03
Karuna Aur Kranti ~ 02
Jin-Sutra Bhag 1 ~ 08
Tao Upanishad Bhag 2 ~ 09
Hasiba Kheliba Dhariba Dhyanam ~ 02
Kahai Kabir Diwana ~ 05, Kahai Kabir Diwana ~ 06
Suli Upar Sej Piya Ki ~ 06
Geeta-Darshan Adhyaya 10 ~ 04
Mahaveer Meri Drishti Mein ~ 01
Dynamics of Meditation ~ 07
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 06
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 05
Main Mrityu Sikhata Hun ~ 15
Main Mrityu Sikhata Hun ~ 04
Tao Upanishad Bhag 2 ~ 02
The Ultimate Alchemy Vol 1 ~ 11
Geeta-Darshan Adhyaya 04 ~ 12
Geeta-Darshan Adhyaya 04 ~ 09
Geeta-Darshan Adhyaya 04 ~ 09
Geeta-Darshan Adhyaya 11 ~ 08
4 साधना सूत्र
साधना सूत्र : प्रवेश के पूर्व
  1. तीन सूत्र : साक्षी-साधना के
  2. चेतना के प्रतिक्रमण का रहस्यसूत्र
  3. निद्रा में जागरण की विधि : जागृति में जागना
  4. ब्रह्म का मौन संगीत
  5. सुनने की कला
  6. शरीर में घनिष्ठता से जीने का आनन्द
  7. सजग होकर स्वप्न देखना -- एक ध्यान
  8. स्मरण रखो एक का
  9. ध्यान -- मृत्यु पर
  10. स्वयं को पाना हो तो दूसरों पर ज्यादा ध्यान मत देता
  11. अदृश्य के दृश्य और अज्ञात के ज्ञात होने का उपाय -- ध्यान
  12. जीवन नृत्य है
  13. स्वयं की कील
  14. स्वीकार से दुःख का विसर्जन
  15. अवलोकन -- वृतियों की उत्पत्ति, विकास व विसर्जन का
  16. क्रोध के दर्शन से क्रोध की ऊर्जा का रुपान्तरण
  17. काम-ऊर्जा का रुपान्तरण -- सम्भोग में साक्षीत्व से
  18. काम-वृत्ति पर ध्यान
  19. विचारों के पतझड़
  20. आनन्‍दातिरेक और भगवत्‌-मादकता का मार्ग
  21. संवेदनशीलता बढ़ाने का प्रयोग

[editor's words]
Dhai Aakhar Prem Ka ~ 076
Dhai Aakhar Prem Ka ~ 137
Prem Ke Phool ~ 023
The Silent Music ~ 30
The Silent Music ~ 07
The Silent Music ~ 04
The Gateless Gate ~ 28
The Silent Music ~ 22
What Is Meditation ~ 36
Dhai Aakhar Prem Ka ~ 092
Antarveena ~ 146
Prem Ke Swar ~ 27
Prem Ke Phool ~ 032
Pad Ghunghru Bandh ~ 024
Pad Ghunghru Bandh ~ 044
Pad Ghunghru Bandh ~ 108
Pad Ghunghru Bandh ~ 078
Prem Ke Phool ~ 045
Prem Ke Phool ~ 135
The Gateless Gate ~ 20
Mahaveer-Vani Bhag 3 ~ 04
5 ध्यानोपलब्धि
  1. अन्तत: सब खो जाता है
  2. मौन के तारों से भर उठेगा हृदयाकाश
  3. ऊर्जा-जागरण से देह-शून्यता
  4. ध्यान -- अशरीरी-भाव और ब्रह्म-भाव
  5. कुण्डलिनी ऊर्जा का ऊर्ध्वगमन
  6. अलौकिक अनुभवों की वर्षा -- कुण्डलिनी-जागरण पर
  7. तैयारी विस्फोट को झेलने की
  8. अहिंसा -- अनिवार्य छाया ध्यान की
  9. गहरे ध्यान के बाद ही जाति-स्मरण का प्रयोग
  10. सिद्धियों में रस न लेना
  11. विचारों का विसर्जन
  12. चक्रों के खुलते समय पीड़ा स्वाभाविक
  13. कुछ भी हो ध्यान को नहीं रोकना
  14. मन का रेचन ध्यान में
  15. छलाँग -- बाहर -- शरीर के, संसार के, समय के
  16. समय के पूर्व शक्ति का जागरण हानिप्रद
  17. पूर्व-जन्‍मों के बन्द द्वारों का खुलना
  18. साधना में धैर्य
  19. ध्यान में पूरा डूबना ही फल का जन्म है
  20. अनुभूति में बुद्धि के प्रयास बाधक
  21. समष्टि को बाँट दिया ध्यान ही समाधि बन जाता है

Prem Ke Phool ~ 075
Dhai Aakhar Prem Ka ~ 122
Pad Ghunghru Bandh ~ 074
Ghoonghat Ke Pat Khol ~ 074
Ghoonghat Ke Pat Khol ~ 030
Ghoonghat Ke Pat Khol ~ 032
Pad Ghunghru Bandh ~ 020
Ghoonghat Ke Pat Khol ~ 114
Dhai Aakhar Prem Ka ~ 120
Ghoonghat Ke Pat Khol ~ 054
Ghoonghat Ke Pat Khol ~ 115
Ghoonghat Ke Pat Khol ~ 118
Pad Ghunghru Bandh ~ 145
Antarveena ~ 052
Pad Ghunghru Bandh ~ 135
Dhai Aakhar Prem Ka ~ 102
The Gateless Gate ~ 21
Prem Ke Phool ~ 025
Antarveena ~ 067
Pad Ghunghru Bandh ~ 057
Pad Ghunghru Bandh ~ 110
6 जिज्ञासा समाधान
  1. क्या तुम ध्यान करना चाहते हो
  2. ध्यान कैसे करें
  3. मौन कैसे हों
  4. स्वप्न में कैसे जागें
  5. विचारों से कैसे मुक्त हों
  6. शून्य कैसे हों
  7. ध्यान की परिभाषा
  8. निराकार के ध्यान की विधि
  9. स्वाध्याय और ध्यान का अन्तर
  10. ध्यान की अन्तिम अवस्था तथा दिन-प्रतिदित वृद्धि
  11. निर्विचार हो जाने पर मन की परिस्थिति
  12. मन स्थिर करने का उपाय
  13. मन में उठते बुरे भावों का निराकरण
  14. ध्यानपूर्वक किये गये जाप का फल
  15. ध्यान का रूप ले लेने वाले जप
  16. कल्पना से कल्पना कटती है
  17. सजग जीने की विधि और सजगता से तात्पर्य
  18. साक्षीत्व की प्रक्रिया
  19. सजगता और साक्षीत्व का फर्क
  20. साक्षी और तथाता में भेद
  21. केवल होश और तथाता में साम्य

Naye Sanket ~ 01 #84 (of 225)
Naye Sanket ~ 01 #85 (of 225)
Kuchh Jyotirmaya Kshan ~ 01 #1
Kuchh Jyotirmaya Kshan ~ 01 #9
Kuchh Jyotirmaya Kshan ~ 01 #12
Main Kaun Hun (writings) ~ 17
Hasiba Kheliba Dhariba Dhyanam ~ 04
Hasiba Kheliba Dhariba Dhyanam ~ 04
Hasiba Kheliba Dhariba Dhyanam ~ 04
Hasiba Kheliba Dhariba Dhyanam ~ 04
Hasiba Kheliba Dhariba Dhyanam ~ 04
Hasiba Kheliba Dhariba Dhyanam ~ 04
Hasiba Kheliba Dhariba Dhyanam ~ 04
Hasiba Kheliba Dhariba Dhyanam ~ 04
Hasiba Kheliba Dhariba Dhyanam ~ 04
Hasiba Kheliba Dhariba Dhyanam ~ 04
Hasiba Kheliba Dhariba Dhyanam ~ 04
Adhyatma Upanishad ~ 03
Hasiba Kheliba Dhariba Dhyanam ~ 04
Main Mrityu Sikhata Hun ~ 15
Main Mrityu Sikhata Hun ~ 15
7 ध्यान मन्दिर
  1. प्रवचन-१
  2. प्रवचन-२

Hasiba Kheliba Dhariba Dhyanam ~ 02
Anant Ki Pukar ~ 11
परिशिष्ट-१
  1. रजनीश-ध्यान-योग
  2. महामन्त्र -- 'हू' के गुह्य-रहस्य
  3. आत्म-साधना में शरीर-शुद्धि के सूक्ष्म रहस्य
  4. आपके प्रश्न : भगवान्‌श्री रजनीश के उत्तर
  5. साधना-शिविर का बिदाई सन्देश
  6. स्टॉप मेडिटेशन
  7. समयसार

Jo Ghar Bare Aapna ~ 01
Samadhi Ke Sapt Dwar ~ 13
editor's words + Dhyan-Sutra ~ 02
Geeta-Darshan Adhyaya 12 ~ 11, Geeta-Darshan Adhyaya 12 ~ 05
Samadhi Ke Sapt Dwar ~ 17
Adhyatma Upanishad ~ 15
Jin-Sutra Bhag 2 ~ 11
परिशिष्ट-२
  1. भारत स्थित रजनीश ध्यान केन्द्र
  2. भगवान्‌श्री रजनीश के सम्पूर्ण हिन्दी वाड्मय का बृहत्‌ सूचीपत्र
  3. Complete List of Original English Literature
  4. पत्र-पत्रिकाएँ
[editor's words]