Test Dharm Ki Yatra Tour

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search
Uc5.jpg

A correspondent has submitted some research based on notebooks Osho wrote that are a part of the wiki's vast collection of Osho's Manuscripts, hand-written documents collected by Neeten. Some of these notebooks contain info about Osho's travels, contacts and lectures from as early as 1961. As research unfolds, more info can be added, eg particular sources for each date-and-place may be unclear at first but can be nailed down as we progress. We'll aim for an outline of Osho's activities of the time; starting with our correspondent's rough notes, we'll process that into something accessible that can link later to such text and details as might be appropriate.

The name of this "tour" has been coined by our correspondent, and may or may not have a relationship with the series Dharm Ki Yatra (धर्म की यात्रा), the dates for which are totally unknown and likely 60s, but no series has up to now been found with roots this early in the 60s. We shall see.

Notebook Vol. 1

Man1282-3

84 Pages Notes of Public Meetings Address & Personal Meetings of Osho with Dignitaries
April 61 to July 61.

Notebooks Vol 2

Man1329-3

40 Pages
Notes on Life Awakening Talks
By OSHO
Oct 62 To Nov 62

Notebooks Vol 5

Man1386-2

9 Pages
Notes of Gadarwara Visit 16th May to 23rd May, 63 (and first fortnight of January 1963 )
——
Regarding OSHO - Life Philosophy

Man1397-3

( जनवरी का प्रथम पक्ष 1963 ) (First Fortnight of January 1963)

Man1155-2

उसका वर्णन अत्यंत कठिन है | उनका व्यक्तित्व अनिर्वचनीय है | उन्होंने मध्यान्ह गोष्ठियों में कहा : " मनुष्य का मन दुश्पूर है | वह भरता ही नहीं है | वरन भरने की हर चेष्टा से और भी खाली मालूम पड़ने लगता है | वह न धन से भरता है, न पद से, न प्रतिष्ठा से | वह भरता ही नहीं है | शायद भरना उसका स्वाभाव ही नहीं है | फिर अंततः मनुष्य उसे परमात्मा से भरना चाहता है | वह उससे भी नहीं भरता है | और यही सतत असफलता मनुष्य का संताप बन जाती है | लेकिन मैं एक अन्य ही दिशा सुझाता हूँ ---- भरने की दिशा से बिल्कुल विपरीत | मन को भरें ही नहीं, बल्कि खाली करें | और यह जीवन का सबसे बड़ा आश्चर्य है कि जो भरने से नहीं भरता वह खाली करते ही पाया जाता है कि सदा से ही भरा हुआ है | आह ! शून्य मन में पूर्ण, सदा से ही विराजमान है | लेकिन भरने की विक्षिप्त चेष्टा में हम उसे देख ही नहीं पाते हैं ! "

...................................... (Manuscript under heading “Notebook Vol 1” In Man1282-3 it is stated that “Notes of public meetings address and personal meeting of Osho with Dignitaries” April 61 to July 61 --- Here is the tour programme of the same from April to July) He had begun this tour from 14th April, 1961 with his lecture in Notebook Vol1 from Man1282-3 to Man1288-2 (Man1288-2 सूख गया - खून बंद हो गया जैसे - देखा वह एक बड़ा हीरा था | झोली भर व्यर्थ गवाँ दिए | हमारा जीवन भी समय के अनंत हीरों को खोता चला जाता है, जब एक क्षण शेष रहे जीवन का तब शायद हीरा-हीरा समझ में आता है | अप्राप्त की इच्छा में - प्राप्त हीरे हम फेंकते चले जाते हैं | सारे धर्म- दुख के कारण मिटाने को हैं | ये मिट जाते हैं | ध्यान योग से - समतुलित या सम-जीवन दृष्टि से | भगवान बुद्ध सबके शास्ता हैं : वे हों या न हों | कोई उनके धर्म को माने या न माने | सबको उनके मार्ग से आनंद मिलने को ही है | सबके लिए सूरज का प्रकाश उपलब्ध है | सबके लिए उनका द्वार खुला है | डा. अम्बेद्कर ने पुनः भारत में द्वार खोला, इससे उनके द्वारा महान उद्द्घोश को जो बुद्ध धर्म-भारत में उनने लाया - और आप सब नव्य दीक्षित बौद्धों को में हृदय से बधाई देता हूँ |

डा. अम्बेद्कर जयंती -- Dr Ambedkar's birthday, an iconic date in the recent history of that time, Dr Ambedkar being someone who rose from the lowest caste to lead fellow unfortunates to liberation.
Apr 14 1961
पूर्वी धमापुर (जबलपुर) -- Eastern Ghamapur, a district of Jabalpur. This appears to have been the first date in the "tour".

Further program from Apr 25 1961 onward is as below (possibly), so further research is needed after reading all lectures and compiling or (and) matching them with clippings in Manuscript Project Under Heading A Files, B Files, C Files,D Files and E files in Hindi.

दिल्ली में विचारगोष्ठी -- seminar in Delhi
25 अप्रेल की दोपहर (1) -- Apr 25 afternoon

......................................

शहीद स्मारक भवन जबलपुर में प्रवचन -- discourse in Shaheed Smarak Bhavan, Jabalpur
28 अप्रेल की रात्रि (2) -- Apr 28 evening

..................................

नारगोल, गुजरात में साधना शिविर (3) -- meditation camp in Nargol GJ

2 मई की रात्रि उद्घाटन | 3,4,5 मई | -- starting May 2 evening and running through May 3, 4 and 5 -- tilt! ..................

प्रोग्रेसिव ग्रूप बंबई में प्रवचन (4)

6 मई की रात्रि | भारतीय विद्यभावन में | ...............

जैन सोशल ग्रुप बंबई में प्रवचन
7 मई की सुबह | बिरला क्रीड़ा केंद्र में | (5)

...................

बसंत व्याख्यानमाला, पूना, में प्रवचन
15 मई की रात्रि | (6)

...............

अंतरभारती, पूना, में प्रवचन
17 मई की सुबह | (7)

...............

जूनागढ़ में विराट सत्संग
18,19,20 मई | (8)

.................

सौराष्ट्र जीवन जाग्रति केंद्र के कार्यकर्ताओं के बीच
20 मई की दोपहर (9)

...............

उदयपुर में साधना शिविर
9,10,11 जून | (10)

..................

राजस्थान शिक्षक सम्मेलन में
11 जून की दोपहर | (11)

................

पोरबंदर रोटरी क्लब में |
21 जून की संध्या | (12)

.................

पोरबंदर में विशाल सत्संग
21,22,23 जून | (13)

Man1156-2

पोरबंदर में कन्या गुरुकुल में
23 जून की दोपहर | (14)

.....................

भावनगर में विराट सत्संग
3,4,5 जुलाई | (15)

................

भावनगर में महिलाओं की विशाल सभा
3 जुलाई की दोपहर | (16)

.............

भावनगर के शिक्षकों और शिक्षार्थीयों के बीच
5 जुलाई की दोपहर | (17)

..................

इंदौर में ज्ञान सत्र :
20,21,22,23 जुलाई | (18)
रवींद्रनाथ टैगोरे नाट्यगृह |

....................

जीवन जागृति केंद्र, इन्दौर, के कार्यकर्ताओं के बीच
20 जुलाई की दोपहर (19)

..................

इंदौर के नवयुवक पत्रकारों के बीच : (20)

................. विद्यार्थियों की विशाल सभा | (21) .................

गाडरवारा में प्रवचन
7 अगस्त की रात्रि | (22)

..............

गाडरवारा में विचारगोष्ठी
8 अगस्त की रात्रि (23)

...................

शहीद स्मारक भवन, जबलपुर में प्रवचन (24)
10 अगस्त की रात्रि

............

Man1157-2

पिपरिया में जनसभा ----
26 जन.

...............

विश्व मैत्री संघ, जबलपुर में --------

29 जन. ..............

टेक्निकल विधायल जबलपुर में ----
2 फरवरी

...........

श्री रामपुर में सत्संग
4,5,6 फरवरी