Us: Path Ke Pathik (उस : पथ के पथिक)

From The Sannyas Wiki
Revision as of 09:16, 16 January 2020 by Dhyanantar (talk | contribs)
Jump to: navigation, search


सूफ़ी धर्म में एक ख़ास तरह का आकर्षण है, एक अनूठे किस्म का जादू है, जो किसी किताब या धर्मशास्त्र से नहीं, केवल एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को हस्तांतरित किया जा सकता है... ...एक सूफ़ी के लिए परमात्मा एक विचार नहीं है, वह उसी के वास्तविक अस्तित्व में जीवित रहता है। वह ऊपर कहीं स्वर्ग में किसी सिंहासन पर नहीं बैठा हुआ है, नहीं, वह अभी और यहीं है। वह हर ओर, हर कहीं, प्रत्येक स्थान पर है। इस सम्पूर्ण अस्तित्व का नाम ही परमात्मा है।... ...सूफ़ी वर्तमान में जीता है। वर्तमान में जीने के लिए जो मूल आवश्यकता है, वह है, अतीत से अपने को बाहर निकाल लेना और साथ ही आने वाले भविष्य से भी अलग कर लेना!... ...स्मरण रहे, सूफ़ी धर्म प्रेम का मार्ग है!... सदी के महान गुरु ओशो की अद्भुत - अपूर्व वाणी से बिखरे सूफ़ी पथ के रूहानी मोती - जवाहर, जिनकी चकाचौंध में ‘उस’ पथ का पथिक बढ़ता चला जाता है।
translated from
English: Sufis: The People of the Path, Vol 1, ch 1-8
notes
See Talk:Abhi, Yahin, Yah (अभी, यहीं, यह) for other translations from Sufis, Vols 1 and 2.
time period of Osho's original talks/writings
Aug 11, 1977 to Aug 18, 1977 : timeline
number of discourses/chapters
8


editions

Us Path Ke Pathik.jpg

Us: Path Ke Pathik (उस : पथ के पथिक)

Year of publication : 2009
Publisher : Hind Pocket Books
ISBN 978-81-216-1349-1 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 320
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

Us Path Ke Pathik3.jpg

Us: Path Ke Pathik (उस : पथ के पथिक)

Year of publication :
Publisher : Hind Pocket Books
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

Us Path Ke Pathik2.jpg

Us: Path Ke Pathik (उस : पथ के पथिक)

Year of publication : 2019
Publisher : Hind Pocket Books
ISBN 9788121620826 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 320
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :