Bahuri Na Aiso Daanv (बहुरि न ऐसो दांव)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


प्रश्नोत्तर प्रवचनमाला के अंतर्गत पुणे में ओशो द्वारा दिए गए दस प्रवचन
घड़ी दो घड़ी चौबीस घंटे में चुप बैठे रहो, कुछ न करो - बस शून्यवत! और उसी शून्य में धीरे-धीरे भीतर की शमा प्रकट होने लगेगी, धुआं कट जाएगा। और जिस दिन भीतर का धुआं कटता है, आंखें स्पष्ट देखने में समर्थ हो जाती हैं—उस दिन तुम परमात्मा हो, सारा अस्तित्व परमात्मा है। और वह अनुभूति आनंद है, मुक्ति है, निर्वाण है।
notes
Osho responds to questions from seekers in Pune. See discussion for a TOC and some gnashing about transliteration.
Later ch.1-5 published as Doobne Ka Aamantran (डूबने का आमन्त्रण), and ch.6-10 as - Shunyata Ka Janma (शून्यता का जन्म).
time period of Osho's original talks/writings
Aug 1, 1980 to Aug 10, 1980 : timeline
number of discourses/chapters
10


editions

Bahuri Na Aiso Daanv 1980 cover.jpg

Bahuri Na Aiso Daanv (बहुरि न ऐसो दांव)

Year of publication : Dec 1980
Publisher : Rajneesh Foundation
Edition no. : 1
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes :

Bahuri-2.jpg

Bahuri Na Aiso Daanv (बहुरि न ऐसो दांव)

Year of publication : 2010
Publisher : Hind Pocket Books
Edition no. :
ISBN 978-81-216-1509-9 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 292
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes : See discussion for a note about the "subtitle".

Bahuri-3.jpg

Bahuri Na Aiso Daanv (बहुरि न ऐसो दांव)

Year of publication : 2014
Publisher : Hind Pocket Books
Edition no. :
ISBN 978-81-216-1509-9 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 292
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes : See discussion for a note about the "subtitle".

Bahuri Na Aiso Daanv 3.jpg

Bahuri Na Aiso Daanv (बहुरि न ऐसो दांव)

Year of publication : 2018
Publisher : Osho Media International
Edition no. :
ISBN 978-0-88050-807-0 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 556
Hardcover / Paperback / Ebook : E
Edition notes :