Bhakti: Jeevan Rupantaran Ki Kala (भक्ति : जीवन रूपांतरण की कला)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


भक्ति कोई शास्‍त्र नहीं है- यात्रा है। भक्ति कोई सिद्धांत पाया नहीं। भक्ति करे डूब कर भक्ति में डूबकर ही कोई भक्ति के राज को समझ्‍ पाता है। नाच कहीं ज्‍यादा करीब है विचार से। गीत कहीं ज्‍यादा करीब है गद्य से। भक्‍त का अर्थ है- जानना है। भक्‍त्‍ का अर्थ है जो असहाय होना जानता है। भक्‍त्‍ का अर्थ है जो अपने ना-कुछ होने को अनुभव करता है।
notes
Previously published as ch.17-20 of Bhakti-Sutra (भक्ति-सूत्र).
time period of Osho's original talks/writings
Mar 17, 1976 to Mar 22, 1976 : timeline
number of discourses/chapters
4   (see table of contents)


editions

Blank.jpg

Bhakti: Jeevan Rupantaran Ki Kala (भक्ति : जीवन रूपांतरण की कला)

Year of publication : ≤1993
Publisher : Diamond Pocket Books
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes : (Source: list of Diamond books in Abhinav Dharm (अभिनव धर्म).)

Bhakti Jeevan Rupantaran Ki Kala.jpg

Bhakti: Jeevan Rupantaran Ki Kala (भक्ति : जीवन रूपांतरण की कला)

नारद भक्ति सूत्र (Narad Bhakti Sutra)

Year of publication : 2005
Publisher : Diamond Pocket Books
ISBN 81-288-1097-9 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 136
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

table of contents

edition 2005
chapter titles
discourses
event location duration media
1 कांता जैसे प्रतिबद्धता है भक्ति 17 Mar 1976 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 47min audio
2 एकांत के मंदिर में है भक्ति 18 Mar 1976 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 41min audio
3 प्रज्ञा की थिरता है मुक्ति 21 Mar 1976 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 41min audio
4 अहोभाव, आनंद, उत्सव है भक्ति 22 Mar 1976 am Chuang Tzu Auditorium, Poona 1h 32min audio