Chal Osho Ke Gaon Mein (चल ओशो के गांव में)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


स्‍वामी ज्ञानभेद की नवीनतम कृति "चल ओशो के गांव में" पढ़ते हुए जब हम प्रकृति के रोमांच को अनुभव करते हैं, तो हमें लगता है कि शायद हम सब उस गांव को तलाश रहे हैं जहां पहुंच कर हम इस आपा-धापी के बुखार से मुक्‍त होकर श्‍वांस ले सकें। स्‍वामी ज्ञानभेद का यह 'ओशो का गांव' कहीं बाहर नहीं, हमारे ही भीतर है। वो हमारे हृदय का उन्‍मुक्‍त आकाश है जिस पर कोई पहरेदार नहीं है, हमारे सिवा।
author
Sw Gyan Bhed
language
Hindi
notes

editions

Cokgm-01.jpg

चल ओशो के गांव में

Year of publication : 2004
Publisher : Diamond Pocket Books
Edition no. : 1
ISBN 8128806114 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 353
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :