Girah Hamara Sunn Mein (गिरह हमारा सुन्न में)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


"मनुष्य के भीतर कोई अनिवार्य शून्यता है; मनुष्य के भीतर एंप्टीनेस है, कोई खालीपन है, कोई अभाव है; मनुष्य के भीतर कुछ बिलकुल रिक्त है। उस रिक्त से घबड़ाहट है, भय है। वह जो शून्य है भीतर उससे डर मालूम होता है। उसको हम भरना चाहते हैं।"
notes
Nine talks given by Osho at a meditation camp in Matheran, only partially available in audio. See discussion for TOCs, events and dates.
Also published as second part of Jeevan-Amrit (जीवन-अमृत)
Chapters 5-9 also published as the part of Samadhi Kamal (समाधि कमल) (ch.10-13, 15).
time period of Osho's original talks/writings
Oct 22 1966 to Oct 25 1966 : timeline
number of discourses/chapters
9


editions

Blank.jpg

Girah Hamara Sunn Mein (गिरह हमारा सुन्न में)

Year of publication : <1997
Publisher :
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes : A list from Osho Diary 1997 (the image) mentiones this title as published earlier.

Girah Hamara Sunn Mein1.jpg

Girah Hamara Sunn Mein (गिरह हमारा सुन्न में)

Year of publication : 2018
Publisher : Osho Media International
ISBN 978-0-88050-859-9 (click ISBN to buy online)
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook : E
Edition notes :