Letter written on 9 Mar 1966

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search

Letter written to Manik Babu, husband of Ma Yoga Sohan, on 9 Mar 1966 in Jabalpur. It is unknown if it has been published or not.

Sohan img623.jpg

प्रिय श्री० माणिक बाबू,
प्रेम। आपका पत्र मिला है। मैं प्रवास पर था,रात्रि ही लौटा हूँ। महावीर जयंती के लिए जयपुर जाने का सोचा था फिर आपका आग्रह है तो पूना ही आरहा हूँ। असली बात तो सोहन के नये मकान में जाने की है !

मैं ३१ मार्च को यहां से कलकत्ता मेल से निकलूंगा। १ अप्रैल नासिक बोल रहा हूँ। २ अप्रैल को ११ बजे कलकत्ता मेल (व्हाया इलाहबाद )से कल्याण के लिए निकलूंगा। जहां से मद्रास एक्सप्रेस पकड़कर पूना ६ बजे पहुँच जाऊँगा। ३ अप्रैल को सुबह या रात्रि जब आप चाहें महावीर जयंती का कार्यक्रम रखलें। ४अप्रैल भी रुकूंगा, लेकिन और कोई कार्यक्रम न रखें। ५ अप्रैल की रात्रि ८ बजे कल्याण से मुझे कलकत्तामेल वापिसी के लिए पकड़नी है। उसपर जबलपुर तक के लिए एयरकंडीशन्ड में एक बर्थ सुरक्षित करालें। डाक्टरों का आग्रह है कि अतिप्रवास के कारण यदि जहांतक संभव हो मैं एयरकंडीशन्ड में चलूं स्वास्थ्य के लिए ठीक है।

श्री० पुंगलिया का भी पत्र था। उन्हें अरविंद ने स्वीकृति का पत्र लिख दिया है।

सोहन को प्रेम।बच्चों को आशीष।

जबलपुर.
९/३/१९६६

रजनीश के प्रणाम

Translation
"Dear Shree Manik Babu,
Love. Your letter is received. I was on the journey, returned just in the night. I had thought of going to Jaipur on Mahavir Jayanti (Note: 3 Apr 1966) but on your insistence I am coming only to Poona. The real thing is to visit Sohan’s new house.
I will start from here on 31st March by Calcutta Mail. Will speak at Nashik on 1st April. On 2nd April at 11 o’clock I will start for Kalyan by Calcutta mail (via Allahabad). From there I will take Madras Express to reach Poona at 6 o’clock. On 3rd April morning or night, as you may wish; arrange program for Mahavir Jayanti. I will stay on 4th April too but don’t keep any other program. I will have to catch Calcutta Mail for returning on 5th April night from Kalyan. Reserve one berth it that (train) in airconditioned (coach). Doctors are insisting that due to much travelling if I travel by airconditioned (coach), it would be better for the health.
There was a letter also from Shree Pungaliya Ji. Arvind has written letter of acceptance to him.
Love to Sohan. Blessings to children.
Jabalpur
9/3/1966
Rajneesh Ke Pranam"
See also
Letters to Manik ~ 07 - The event of this letter.
Letters to Sohan and Manik - Overview page of these letters.