Nanak Dukhiya Sab Sansar (नानक दुखिया सब संसार)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


जीवन के विभिन्न पहलुओं पर ओशो द्वारा दिए गए सात प्रवचन
जन्म जीवन नहीं है; जन्म केवल संभावना है। जीवन मिल भी सकता है, खो भी सकता है। जन्म दोनों के लिए द्वार बन सकता है--जीवन पाने के लिए भी, जीवन खोने के लिए भी। जन्म अपने में सिर्फ संभावना, पॉसिबिलिटी है। जन्म कुछ भी नहीं है, सिर्फ एक अवसर, एक ऑपरच्युनिटी है।
notes
The title derives from a saying of Guru Nanak Dev, founder of the Sikh religion, meaning roughly, "All in this world are unhappy" (except those who have established a life in the beyond).
It's chapters 1, 2, 4, 5 and 7 have been published in book form as part of Dukh Ke Paar (दुख के पार) (ch. 2, 4, 5, 6 and 1 respectively).
There is a Punjabi translation: Nanak Dukhiya Sabhu Sansaru (ਨਾਨਕ ਦੁਖੀਆ ਸਭੁ ਸੰਸਾਰੁ).
See discussion for a TOC and comparison of different sources.
time period of Osho's original talks/writings
unknown : timeline
number of discourses/chapters
7


editions

Blank.jpg

Nanak Dukhiya Sab Sansar (नानक दुखिया सब संसार)

Year of publication : ≤Dec 1986
Publisher :
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes : Sources: list of books from Koplen Phir Phoot Aayeen (कोंपलें फिर फूट आईं) (1986.12 ed.), Mahaveer-Vani, Bhag 2 (महावीर-वाणी, भाग 2) ver 1.5 (1988 ed.), Osho Diary 1997 (the image), Dhyan Ke Kamal (ध्यान के कमल) (1999.06 ed.).