Patanjali Yog-Sutra, Bhag 5 (पतंजलि योग-सूत्र, भाग पांच)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


मुक्ति की कला क्या है? मुक्ति की कला और कुछ नहीं बल्कि सम्मोहन से बाहर आने की कला है; मन की इस सम्मोहित अवस्था का परित्याग कैसे किया जाए; संस्कारों से मुक्त कैसे हुआ जाए; वास्तविकता की ओर बिना किसी ऐसी धरणा के जो वास्तविकता और तुम्हारे मध्य अवरोध् बन सकती है, कैसे देखा जाए; आंखों में कोई इच्छा लिए बिना कैसे बस देखा जाए, किसी प्रेरणा के बिना कैसे बस हुआ जाए। यही तो है जिसके बारे में योग है। तभी अचानक जो तुम्हारे भीतर है और जो तुम्हारे भीतर सदैव आरंभ से ही विद्यमान है, प्रकट हो जाता है।
translated from
English: Yoga: The Alpha and the Omega, Vol 9 and Yoga: The Alpha and the Omega, Vol 10
notes
The fifth of five volumes of twenty discourses each on Patanjali's Yoga Sutras. Other Hindi volumes in this series can be found at Patanjali Yog-Sutra (पतंजलि योग-सूत्र) (series). Diamond has also published all five volumes, and apparently is keeping them in print; 1997 may be the last edition published by Rebel, though info for this particular volume (5) has not been found yet, unlike vols 1-4.
time period of Osho's original talks/writings
Apr 21, 1976 to May 10, 1976 : timeline
number of discourses/chapters
20


editions

Blank.jpg

Patanjali Yog-Sutra, Bhag 5 (पतंजलि योग-सूत्र, भाग पांच)

Year of publication :
Publisher : Rebel Publishing House Pvt Ltd
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes :

Patanj-5D.jpg

Patanjali Yog-Sutra, Bhag 5 (पतंजलि योग-सूत्र, भाग पांच)

बुलाते हैं फिर तुम्हें (Bulate Hain Phir Tumhen)

Year of publication : 2006
reprint 2013
Publisher : Fusion Books
ISBN 81-8419-135-9 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 515
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes :

Patanj-5D.jpg

Patanjali Yog-Sutra, Bhag 5 (पतंजलि योग-सूत्र, भाग पांच)

बुलाते हैं फिर तुम्हें (Bulate Hain Phir Tumhen)

Year of publication : 2010
Reprint: 2012
Publisher : Fusion Books
ISBN 9788184191400 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 518
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :