Osho Vandana (Navayug Ka Naya Mantr)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search
Osho Vandana (Navayug Ka Naya Mantr) - ‘ओशो’ - नवयुग का नया मंत्र


Sw Shailendra Saraswati has kindly shared the studio track and the lyrics.

Writers
Sw Anand Siddharth (Dr. V. K. Singh)
Lyrics
‘ओशो’ : नवयुग का नया मंत्र osho: navayug ka naya mantr

अथ सद्गुरु शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।
अथ सद्गुरु शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

ओशो का मतलब ब्रह्म राम, सच्चिदानंद, अनहद, अनंत।
शाश्वत, असीम, निर्गुण, विराट, ‘ओशो’ नवयुग का नया मंत्र।
ओशो है भक्तों की पुकार, ओशो आलोकित निराकार।
अथ मंत्रं शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

नानक ने जिसको कहा ओम्, मैं उसको ओशो कहता हूं।
कहते कबीर हैं नाम जिसे, मैं उसको ओशो कहता हूं।
थी बूंद कभी अब सागर है, ओशो चेतन रत्नाकर है।
ओंकारं शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

जो अलख, निरंजन, महाकाल, अब उस ओशो की जय बोलो।
जो दिव्य दृष्टि से है दिखता, अब उस ओशो की जय बोलो।
जब व्यक्ति विदा हो गया सखे, ओशो समष्टि हो गया सखे।
अथ सर्वं शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

ओशो के भीतर शब्द निनादित हुआ, वही तो ओशो है।
ओशो के भीतर नाम प्रकाशित हुआ, वही तो ओशो है।
कण-कण में जो करता गुंजन, अब उस ओशो का कर वंदन।
अथ नादं शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

है जगत एक आकार, जहाँ ओशो बुद्धों के बुद्ध हुए।
लाखों लोगों को ज्ञान दिया, कुछ उन जैसे ही बुद्ध हुए।
लेकिन जग है एक निराकार, जिसमें ओशो अनहद अपार।
अथ अनहद शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

अब किस ओशो को प्यार करूं, हा! किस ओशो को छोडूं मैं?
है एक गुरु, दूजा गोविन्द, अब किससे नाता तोडूं मै?
गुरु गोविन्द में है भेद नहीं, कहते उपनिषद, वेद सभी।
अथ वेदं शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

जो कहता ‘मेरे प्रिय आत्मन्’, वह प्यारा सद्गुरु ओशो है।
अनहद का बाजा बजता है, यह ओंकार भी ओशो है।
जो भेद गीत और धुन में है, बस वही सगुण निर्गुण में है।
अथ निर्गुण शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

सुन्दर नयनों सुंदर बयनों का धनी, हमारा ओशो है।
लेकिन सबकी आंखों के पीछे का प्रकाश भी ओशो है।
एक हरे बसन वाला ओशो, एक हरियाली वाला ओशो।
आलोकं शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

जो स्वाद ले रहा व्यंजन का, फिर मुस्काता वह ओशो है।
लेकिन सब में जो दिव्य स्वाद है, वह भी प्यारा ओशो है।
एक क्षर है दूजा है अक्षर, एक बूंद दूसरा है सागर।
अथ स्वादं शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

जिसकी मीठी बातें सुनकर छा गया नशा, वह ओशो है।
पर ‘नाम खुमारी चढ़ी नानका’ सबमें वह भी ओशो है।
एक साकी दो नयनों वाला, एक भरता सबका है प्याला।
अथ मदिरं शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

जो ब्रह्मकमल-सा खिला, जगत को किया सुगन्धित ओशो है।
लेकिन सब में जो दिव्य गंध चंदन है, वह भी ओशो है।
अब किस ओशो को करूं नमन, दोनों अद्भुत, दोनों पावन।
अथ सुरभिं शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

एक ओशो ने कुछ की काया को छूकर कंचन बना दिया।
दूजे ने सबके रोम-रोम में, मस्त पवन को बहा दिया।
दोनों का है स्पर्श मधुर, दोनों सुखकर दोनों सुंदर।
आनंदं शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

लाखों में बोध जगाने को, प्यारा सद्गुरु ओशो आया।
लेकिन सारे जीवों में दूजा, चेतन बनकर है छाया।
यह भी ओशो वह भी ओशो, सब ओर मुझे दिखता ओशो।
अथ बोधं शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

एक आया मृत्यु सिखाने को, जो जीवित मरना सिखा गया।
दूजा ओशो खुद अमृत है, सबके प्राणों में समा गया।
एक ओशो अमृत का प्याला, दूजा शाश्वत हरि गोपाला।
अथ अमृत शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

एक आया प्रेम मसीहा बन, जो पाठ प्रेम का पढ़ा गया।
दूजा सबके दिल में खुद ही, बन प्रेम अलौकिक समा गया।
अब बुद्ध कहो या कहो कृष्ण, ओशो का मतलब इश्क-इश्क।
अथ प्रेमं शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

पाषाण कहीं है मनुज कहीं, सब सृष्टि का प्रभु है धागा।
पाषाणों में पूरा सोया, बुद्धों में है पूरा जागा।
है एक शक्ति अद्वैत अहो, उसको ही मैं कहता ओशो।
अद्वैतं शरणं गच्छामि, भज ओशो शरणं गच्छामि।।

ath sadgugu sharanan gachchhamee, bhaj osho sharanan gachchhamee ..
ath sadgugu sharanan gachchhamee, bhaj osho sharanan gachchhamee ..

osho ka matalab brahm raam, sachchidaanand, anahad, anant
anant, aseem, nirgun, vishaal, osho navayug ka naya mantr
osho hai bhakton ka pukaar, osho aalokit avataar.
ath manthan sharanan gachchhaamee, bhaj osho shararanan gachchhamee ..

naanak ne jisako kaha om, main usako osho kahata hoon.
kaha kabeer hain naam jise, main usako osho kahata hoon.
vah boond kabhee ab saagar hai, osho chetan ratnaakar hai.
onkaaran sharanan gachchhamee, bhaj osho saranan gachhmi ..

jo alakh, nirnaayak, mahaakaal, ab us osho kee jay bolo
jo divy drshti se dikhata hai, ab us osho kee jay bolo.
jab vyakti vida ho gaya sakhe, osho sanshth ho gaya sakve
ath sarvan sharanan gachchhaamee, bhaj osho sharanan gachchhaamee ..

osho ke bheetar shabd ninaad hua, vahee to osho hai
osho ke bheetar naam prakaashit hua, vahee to osho hai
kan-kan mein jo karata gunjan, ab us osho ka kar vandan.
ath naadan sharanan gachchhamee, bhaj osho shararanen gachchhaamee ..

jagat ek aakaar, jahaan osho bauddhon ka buddh hua
laakhon logon ko gyaan diya, kuchh un jaisa hee buddh hua
lekin jagat mein ek niraakaar hai, jisamen osho anahad apaar
ath anahad sharanan gachchhaamee, bhaj osho shararanen gachchhaamee ..

ab kis osho ko pyaar karata hai, hai! kis osho ko chhodoon main?
hai ek guru, dooja govind, ab kisase naata todoon mai?
guru govind mein nahin hai, nahin, kahate hain upanishad, ved sab
ath vedan sharanan gachchhamee, bhaj osho shararanen gachchhaamee ..

jo kahata hai mere priy svan, vah pyaara sadguru osho hai
anahad ka baaja bajata hai, yah omakaar bhee osho hai
jo bhed geet aur dhun mein hai, bas vahee sabagun naagun mein hai
ath nirgun sharanan gachchhaamee, bhaj osho sharanan gachchhaamee ..

sundar neeyanon sundar beeyanon ka dhanee, hamaara osho hai
lekin sabakee aankhon ke peechhe ka prakaash bhee osho hai
ek hariyaalee vaala osho, ek hariyaalee vaala osho
aalokan sharanan gachchhamee, bhaj osho shararanen gachchamee ..

jo maskaata vah osho hai
lekin sab mein jo divy svaad hai, vah bhee pyaara osho hai
ek kagaar hai dooja hai akshar, ek boond doosara hai saagar
ath svaadn sharanan gachchhaamee, bhaj osho shararanen gachchhaamee ..

jisakee madhu baaten sunakar chhala gaya nasha, vah osho hai
par naam khumaaree chadhee naanaka sabamen vah bhee osho hai
ek saakee do nayanon vaala, ek bharat sabaka hai pyaala
ath madiran sharanan gachchhamee, bhaj osho sharanan gachami ..

jo brahmakamal-sa khila, jagat ko kiya sugandhit osho hai
lekin sab mein jo divy gandh chandan hai, vah bhee osho hai
ab kis osho ko karan namaman, donon adbhut, donon paavan
ath sukhabeer sharanan gachchhaamee, bhaj osho sharanen gachchhaamee ..

ek osho ne kuchh ke kaya ko chhookar kanchan bana diya.
dooje ne sabake rom-rom mein, mast pavan ko baha diya
donon ka hai sparsh madhur, donon sukhadaayak donon sundar
aanandam sharanan gachchhaamee, bhaj osho shararanen gachchhaamee ..

laakhon mein bodh jaagane ko, pyaara sadguru osho aaya
lekin sabhee jeevon mein duja, chetan banakar hai chhaaya
yah bhee osho vah bhee osho, sab se mujhe dikhata osho
ath bododan sharanan gachchhamee, bhaj osho shararan guchchhaami ..

ek aaya mrtyu sikhaane ko, jo jeevit marana sikha gaya.
dooja osho khud amrt hai, sabake praanon mein sama hua.
ek osho amrt ka pyaala, dooja saashvat hari gopaala
aath atik sararan gakhmee, bhaj osho sharanan gachchhaamee ..

ek aaya prem maseeha ban, jo paath prem ka padha gaya hai.
dooja sabake dil mein khud hee, ban prem alaukik sama hua.
ab buddh kaho ya kaho krshn, osho ka arth ishk-ishk
ath preman sharanan gachchhamee, bhaj osho shararanen gachchhaamee ..

paashaan kaheen hai manuj kaheen, sab srshti ka bhagavaan hai dhaaga.
patthar mein poora soya, buddhon mein hai poora sthaan
hai ek shakti advait aho, usako hee main kahata osho
advaitat sharanan gachchhamee, bhaj osho shararanen gachchhaamee ..

Osho Vandana (music album)

Artists
Ma Amrit Priya - Main singer
Recorded
July 2017 at Gurdeep Studio, Delhi (India)
Released
July 2017

Audio - full length

02 29:12