Shiksha Mein Kranti (शिक्षा में क्रांति)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


आज का मानव समाज, मानव-मन, सम्मोहित है, आतंकित है- हम भटक गये हैं, कोई दिशा बोध नहीं है। इस विघटित समाज, विघटित मन और विघटनकारी शक्तियों के बीच सामंजस्य लाने वाले, भेद से अभेद में लाने वाले, विघटन से संयोजन और योग की भूमिका निर्माण करने वाले-महायोगी ओशो ने एक वैश्विक स्तर पर विद्रोह का सूत्रपात किया और क्रांति की मशाल जलाई! विद्रोह के बाद ही क्रांति संभव है।
जहां किरणों की कविताएं खिलखिला रही हैं और आस्थाओं की ऋतुएं झिलमिला रही हैं... क्यों न हम भी अपने रीते पड़े ज्योति-कलशों को आकंठ भर लें आज! इन प्रवचनों की अमृत-धारा में प्रवेश करें, डुबकी लगाएं-इनमें बहुत अमूल्य हीरे हैं, जिनसे आप अपने जीवन को जगमगा सकते हैं। लीजिए, पूरी मंजूषा आपके हाथों में है।
notes
A compilation of talks given around India in the late 60's on the subject of education, some having previously been published as pamphlets. Five shorter "series" which comprise Shiksha Mein Kranti:
Naye Manushya Ke Janma Ki Disha (नये मनुष्य के जन्म की दिशा): here as ch.1
Agyat Ki Or (अज्ञात की ओर): here as ch. 2 and 3
Kranti-Nad (क्रान्ति-नाद): here as ch.4-7
Agyat Ke Nae Aayam (अज्ञात के नए आयाम): here as ch.8
Naye Bharat Ka Janm (नये भारत का जन्म)
Shiksha Aur Dharm (शिक्षा और धर्म)
and a shorter Shiksha Mein Kranti series after which the whole larger one was named. See discussion for more on this.
Later published by Diamond books as four books:
Chapter 1 available as handwritten manuscript Shiksha, Shikshak Aur Samaj (शिक्षा, शिक्षक और समाज). And chapter 2 as another manuscript Vigyan Aur Dharma (विज्ञान और धर्म).
Parts have been translated into English as Revolution in Education.
time period of Osho's original talks/writings
from 1962 (?) to 1969 : timeline
number of discourses/chapters
31
8 in Diamond edition: they are ch.24-31 of this series


editions

Shiksha Mein Kranti 1980 cover.jpg

Shiksha Mein Kranti (शिक्षा में क्रांति)

Year of publication : Jan 1980
Publisher : Rajneesh Foundation
Edition no. : 1
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes : Perhapse missing second page for Contents.

2669 sml.jpg

Shiksha Mein Kranti (शिक्षा में क्रांति)

सुन सको तो सुनो, थोड़ी देर और पुकारूंगा, और चला जाऊंगा (sun sako to suno, thodi der aur pukarunga, aur chala jaunga )

Year of publication : 1989
Publisher : Rebel Publishing House, India
Edition no. : 1
ISBN
Number of pages : 532
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes : **

2669 sml.jpg

Shiksha Mein Kranti (शिक्षा में क्रांति)

सुन सको तो सुनो, थोड़ी देर और पुकारूंगा, और चला जाऊंगा (sun sako to suno, thodi der aur pukarunga, aur chala jaunga )

Year of publication : 2002
Reprint 2005
Publisher : Rebel Publishing House, India
Edition no. : 1
ISBN 81-7261-050-5 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 532
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :

Shiksha-D.jpg

Shiksha Mein Kranti (शिक्षा में क्रांति)

Year of publication : 2003
Publisher : Diamond Books
Edition no. : 1
ISBN 81-288-0342-5 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 200
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes : **

2669B sml.jpg

Shiksha Mein Kranti (शिक्षा में क्रांति)

सुन सको तो सुनो, थोड़ी देर और पुकारूंगा, और चला जाऊंगा (sun sako to suno, thodi der aur pukarunga, aur chala jaunga )

Year of publication :
Publisher : Osho Media International
Edition no. : 2
ISBN 978-81-7261-050-0 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 532
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :