Letter written on 16 Feb 1971

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search

Letterhead reads:

acharya rajneesh on top in lower-case
A-1 WOODLAND PEDDAR ROAD BOMBAY-26 PHONE : 382184 in ALL-CAPS

Logo in the upper right corner is a "standard" Jeevan Jagriti Kendra logo in two colours.

The letter is dated 16th February 1971, recipient is Sw Anand Amrit. It has been published in Pad Ghunghru Bandh (पद घुंघरू बांध) as letter 52.

acharya rajneesh

A-1 WOODLAND PEDDAR ROAD BOMBAY-26. PHONE: 382184

प्रिय आनंद अमृत,
प्रेम। अंधेरा सघन होता है सुबह होने के पूर्व।

ऐसा ही अंधेरा तुम्हारे चारों ओर है।

ध्यान को गहरा करो ताकि सुबह के फूटने में सहायता मिले।

अंधेरे से निराश न होना।

वह तो केवल सुबह के निकट होने का आश्वासन है।

आशा से, आत्मविश्वास से खटखटाओ प्रभु के व्दार को।

संकल्प से आगे बढ़ो।

व्दार पर ही तो खड़े हो !

छोडो सब भय।

और आगे बढ़ो।

"उतिष्ठत् ! जागृत् !प्राप्य वरान्तिबोधन् !"

उठो !

जागो !

और भगवान् के व्दारा दिये वरदान् स्वरूप इस जीवन को समझ लो !

रजनीश के प्रणाम

१६/२/१९७१

Letter-16-Feb-1971.jpg


See also
Pad Ghunghru Bandh ~ 052 - The event of this letter.