Dhyanyog: Pratham Aur Antim Mukti (ध्यानयोग : प्रथम और अंतिम मुक्‍ति)

From The Sannyas Wiki
Jump to: navigation, search


‘ध्यानयोग प्रथम और अंतिम मुक्ति’ ओशो द्वारा सृजित अनेक ध्यान विधियों का विस्तृत व प्रायोगिक विवरण है। ध्यान में कुछ अनिवार्य तत्व हैः विधि कोई भी हो, वे अनिवार्य तत्व हर विधि के लिए आवष्यक है। पहली है एक विश्रामपूर्ण अवस्थाः मन के साथ कोई संघर्ष नहीं, मन पर कोई नियंत्रण नहीं; कोई एकाग्रता नहीं। दूसरा, जो भी चल रहा है उसे बिना किसी हस्तक्षेप के, बस शांत सजगता से देखो भर-शांत हो कर, बिना किसी निर्णय और मूल्यांकन के, बस मन को देखते रहो।
ये तीन बातें हैः विश्राम, साक्षित्व, अनिर्णय।
पुस्तक के मुख्य बिन्दु में ओशो सक्रिय ध्यान विधियों व ओशो मेडिटेटिव थेरेपीज़ का, जो कि आधुनिक जीवन के तनावों से सीधे निपटती हैं व हमें ताजा व उर्जावान कर जाती हैं। ओशो बहुत सी प्राचीन विधियों की भी चर्चा करते हैं: विपस्सना व झाझेन, केंद्रीकरण की विधियां, प्रकाश व अंधकार पर ध्यान, हृदय के विकास की विधियां....।
पुस्तक में ओशो द्वारा बतायी गयी ध्यान विधियों को पांच खण्डों में विभाजित किया गया है।
1. प्रथम खण्डः ध्यान के विषय में
2. द्वितीय खण्डः ध्यान का विज्ञान
3. तृतीय खण्डः ध्यान की विधियां
4. चतुर्थ खण्डः ध्यान में बाधाएं
5. पंचम खण्डः ओशो से ध्यान संबंधी प्रष्नोत्तर
translated from
English : Meditation: The First and Last Freedom
notes
This compilation is an essential compendium of methods and understanding of the subject of meditation, a significant emphasis is on Osho's Dynamic Meditation.
It is not clear whether the smaller volume published by Diamond called Osho Dhyan Yog (ओशो ध्यान योग) is derived from this book or it has an independent origin. See discussion for other details.
time period of Osho's original talks/writings
Apr 11, 1970 to May 26, 1988 (for 2004ed. and before);
unknown (for 2015 ed.) : timeline
number of discourses/chapters
28 (1998-2004 ed.)
30 (2015 ed.)
(see table of contents)


editions

Blank.jpg

Dhyanyog: Pratham Aur Antim Mukti (ध्यानयोग : प्रथम और अंतिम मुक्‍ति)

Year of publication : 1988~1990
Publisher : Rebel Publishing House
ISBN
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes : First edition.

2620 sml.jpg

Dhyanyog: Pratham Aur Antim Mukti (ध्यानयोग : प्रथम और अंतिम मुक्‍ति)

ध्यान-साधना के लिए मार्ग-दर्शिका (Dhyan-Sadhana Ke Liye Marg-Darshika)

Year of publication :
Publisher : Rebel Publishing House, Pune, India
ISBN 81-7261-029-7 (click ISBN to buy online)
Number of pages :
Hardcover / Paperback / Ebook :
Edition notes : **

DhyanYog - Pratham aur Antim Mukti cover 1998.jpg

Dhyanyog: Pratham Aur Antim Mukti (ध्यानयोग : प्रथम और अंतिम मुक्‍ति)

ध्यान-साधना के लिए मार्ग-दर्शिका (Dhyan-Sadhana Ke Liye Marg-Darshika)

Year of publication : Mar 1998
Publisher : The Rebel Publishing House Pvt. Ltd., Pune, India
ISBN 81-7261-029-7 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 320
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes : **
compiling: Sw Deva Wadud, BFA, MLA (Harvard), D Phil M (RIMU)
translation: Sw Sanjay Bharti, B Com
editing: Sw Yoga Chinmaya, MM, D Phil M (RIMU), Acharya
typing: Sw Anurag Dharma, MA (University of Hamburg)
design: Ma Prem Prarthana, MSc
typesetting: Tao Publishing Pvt Ltd, 50 Koregaon Park, Pune
co-ordination: Sw Yoga Amit, BSc
publisher: Rebel Publishing House Pvt Ltd, 50 Koregaon Park, Pune
printing: Tata Press Limited, Mumbai
translation copyright © 1990 Osho International Foundation, all rights reserved
originally published under the title 'Meditation : The First and Last Freedom', copyright © 1988/1990 Osho International Foundation, all rights reserved, etc
fifth special deluxe edition: March 1998
ISBN 81-7261-029-7

DhyanYog - Pratham aur Antim Mukti cover 1998.jpg

Dhyanyog: Pratham Aur Antim Mukti (ध्यानयोग : प्रथम और अंतिम मुक्‍ति)

ध्यान-साधना के लिए मार्ग-दर्शिका (Dhyan-Sadhana Ke Liye Marg-Darshika)

Year of publication : May 1999
Publisher : The Rebel Publishing House Pvt. Ltd., Pune, India
ISBN 81-7261-029-7 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 280 + XXXVI
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes :

Dhyanyog-4.jpg

Dhyanyog: Pratham Aur Antim Mukti (ध्यानयोग : प्रथम और अंतिम मुक्‍ति)

ध्यान-साधना के लिए मार्ग-दर्शिका (Dhyan-Sadhana Ke Liye Marg-Darshika)

Year of publication :
Publisher : Rebel Publishing House, Pune, India
ISBN 978-81-7261-029-6 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 332
Hardcover / Paperback / Ebook : P
Edition notes : **

DhyanYog-5.jpg

Dhyanyog: Pratham Aur Antim Mukti (ध्यानयोग : प्रथम और अंतिम मुक्‍ति)

ध्यान-साधना के लिए मार्ग-दर्शिका (Dhyan-Sadhana Ke Liye Marg-Darshika)

Year of publication : 2003
Publisher : OSHO Media International
ISBN 9788172610296 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 332
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes : **

DhyanYog- Pratham Evam Antim Mukti cover.jpg

Dhyanyog: Pratham Aur Antim Mukti (ध्यानयोग : प्रथम और अंतिम मुक्‍ति)

ध्यान-साधना के लिए मार्ग-दर्शिका (Dhyan-Sadhana Ke Liye Marg-Darshika)

Year of publication : Sep 2004
Publisher : Tao Publishing Pvt Ltd
ISBN 9788172610296 (click ISBN to buy online)
Number of pages : ~295
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes : **
compiling: Wadud, BFA, MLA (Harvard), D Phil M (RIMU)
translation: Sanjay, B Com
editing: Chinmaya, MM, D Phil M (RIMU), Acharya
typing: Dharma, MA (University of Hamburg)
design: Prarthana, MSc
co-ordination: Amit, BSc
typesetting: Tao Publishing Pvt Ltd, 50 Koregaon Park, Pune
publisher: Tao Publishing Pvt Ltd, 50 Koregaon Park, Pune
printing: Thomson Press (India) Limited, New Delhi
first publication © 1990 Osho International Foundation
© all revisions 1953-2004 Osho International Foundation, all rights reserved
originally published under the title 'Meditation : The First and Last Freedom'
first publication © 1988 Osho International Foundation
© all revisions 1953-2004 Osho International Foundation, all rights reserved
tenth special deluxe edition: September 2004
ISBN 81-7261-029-7

DhyanYog 2015 cover.jpg

Dhyanyog: Pratham Aur Antim Mukti (ध्यानयोग : प्रथम और अंतिम मुक्‍ति)

Year of publication : 2015
Publisher : Osho Media International, Pune, India
ISBN 978-81-7261-325-9 (click ISBN to buy online)
Number of pages : 268
Hardcover / Paperback / Ebook : H
Edition notes : Copyright © 1988, 2015 Osho International Foundation, www.osho.com/copyrights. New and revised edition.
Printed in India by Manipal Technologies Limited, Karnataka

table of contents

editions 1998.03, 1999.05, 2004.09
chapter titles
source of the compilation
भूमिका by Sw Deva Wadud
with quotes from Philosophia Ultima ~ 01, Hsin Hsin Ming ~ 03, The Guest ~ 06
पाठकों के लिए सुझाव editor's words with quote from The Dhammapada Vol 01 ~ 02
Part I. ध्यान के विषय में
1 ध्यान क्या है?
साक्षी है ध्यान की आत्मा

I Am the Gate ~ 05, Dang Dang Doko Dang ~ 05, From Misery to Enlightenment ~ 02, The Osho Upanishad ~ 03, Light on the Path ~ 01, The Search ~ 06, The Old Pond ~ 22, Beyond Enlightenment ~ 09
2 ध्यान की खिलावट
गहन मौन
संवेदनशीलता का विकास
प्रेम--ध्यान की सुवास
करुणा
अकारण सतत आनंद
प्रतिभा : प्रत्युत्तर की क्षमता
एकाकीपन तुम्हारा स्वभाव है
तुम्हारा सच्चा स्वरूप
The Inward Revolution ~ 02;
The Golden Future ~ 01;
Beyond Enlightenment ~ 28;
The Search ~ 06, Guida Spirituale ~ 15;
Zen Zest Zip Zap and Zing ~ 03;
The Secret of Secrets Vol 2 ~ 03;
Guida Spirituale ~ 12;
The Fish in the Sea Is Not Thirsty ~ 02, Hallelujah ~ 22, Just the Tip of the Iceberg ~ 18, The Guest ~ 11;
The Dhammapada Vol 02 ~ 08, Guida Spirituale ~ 02
Part II. ध्यान का विज्ञान
3 विधियां और ध्यान
विधियां सहयोगी हैं
प्रयास से शुरू करो
ये विधियां सरल हैं
पहले विधि को समझ लो
सम्यक विधि का बोध
कब विधि को छोड़ना
कल्पना तुम्हारे लिए कार्य कर सकती है
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 07;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 07, Tantra The Supreme Understanding ~ 08;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 10;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 01;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 17;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 01;
The Book of Wisdom Vol 1 ~ 01;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 35, Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 31
4 साधकों के लिए प्रारंभिक सुझाव
ध्यान का समय
उपयुक्त स्थान
सुखपूर्वक होओ
रेचन से प्रारंभ करो
The Secret of Secrets Vol 2 ~ 01;
The Secret of Secrets Vol 2 ~ 01;
Yoga The Alpha and Omega Vol 06 ~ 07;
Dynamics of Meditation ~ 04, The Great Zen Master Ta Hui ~ 20
5 मुक्ति हेतु दिशा-निर्देश
तीन अनिवार्यताएं
खेलपूर्ण रहो
धैर्य रखो
परिणाम मत खोजो
बेहोशी का भी सम्मान करो
यंत्र मदद देते हैं परंतु ध्यान निर्मित नहीं करते
तुम अनुभव नहीं हो
द्रष्टा साक्षी नहीं है
ध्यान एक गुर है, एक 'नैक' है
The Great Zen Master Ta Hui ~ 14;
Ancient Music in the Pines ~ 07;
Prem Ke Phool ~ 060;
The Book of Wisdom Vol 1 ~ 09;
Yoga The Alpha and Omega Vol 03 ~ 10;
YAA HOO The Mystic Rose ~ 10;
The Hidden Splendor ~ 10;
The Book of Wisdom Vol 2 ~ 07;
Sermons in Stones ~ 04, What Is Is What Ain't Ain't ~ 10, The Sword and the Lotus ~ 08
Part III. ध्यान की विधियां
6 जागरण की दो शक्तिशाली विधियां
सक्रिय-ध्यान : रेचन और उत्सव
सक्रिय-ध्यान (डाइनैमिक मेडिटेशन) के लिए निर्देश *
स्वयं को नया जन्म देना
साक्षी बने रहो
कुंडलिनी ध्यान *
I Say unto You Vol 2 ~ 06;
My Way The Way of White Clouds ~ 04;
(Instructions currently in use at Osho Commune International, Poona, India);
Meditation The Art of Ecstasy ~ 03;
Roots and Wings ~ 01;
Hsin Hsin Ming ~ 02 + editor's words
7 ओशो ध्यान चिकित्सा-समूह
"मिस्टिक रोज़" ध्यान *
हंसी के लिए निर्देश
रुदन एवं 'शिखर पर बैठे द्रष्टा' के लिए निर्देश
Light on the Path ~ 16 + editor's words;
Satyam Shivam Sundram ~ 18, YAA HOO The Mystic Rose ~ 30;
(Instructions currently in use at Osho Commune International, Poona, India) + two quotes from YAA HOO The Mystic Rose ~ 30;
(Instructions currently in use at Osho Commune International, Poona, India)
8 "नो-माइंड" ध्यान
नो-माइंड ध्यान के लिए निर्देश *
This This A Thousand Times This ~ 06, Live Zen ~ 17;
(Instructions currently in use at Osho Commune International, Poona, India)
9 "बॉर्न अगेन"
बॉर्न अगेन के लिए निर्देश
The Supreme Doctrine ~ 01;
The Supreme Doctrine ~ 01
10 नृत्य : एक ध्यान
नृत्य में खो जाओ
नटराज ध्यान *
व्हिरलिंग ध्यान *
Samadhi Ke Sapt Dwar ~ 06 (English part);
Samadhi Ke Sapt Dwar ~ 06 (English part) + editor's words;
Roots and Wings ~ 01 + editor's words
11 कुछ भी ध्यान बन सकता है
दौड़ना, जॉगिंग और तैरना
हंसना ध्यान
हंसते हुए बुद्ध
धूम्रपान ध्यान
The Open Secret ~ 07;
The Open Secret ~ 07, The Book of Wisdom Vol 2 ~ 07, Beloved of My Heart ~ 25, A Rose Is a Rose Is a Rose ~ 12;
A Sudden Clash of Thunder ~ 09 + editor's words;
The Secret of Secrets Vol 2 ~ 04;
The Secret ~ 04
12 श्वास : एक सेतु--ध्यान तक
विपस्सना *
चलते हुए विपस्सना : चंक्रमण
श्वासों के बीच के अंतराल को देखना
बाजार में अंतराल को देखना
स्वप्न पर स्वामित्व
मनोदशाओं को बाहर फेंकना
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 03;
The New Dawn ~ 16;
(Instructions currently in use at Osho Commune International, Poona, India);
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 03;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 05;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 05;
Yoga The Alpha and Omega Vol 02 ~ 09
13 हृदय को खोलना
बुद्धि से हृदय की ओर
प्रार्थना ध्यान *
शांत हृदय
हृदय का केंद्रीकरण
अतीशा की हृदय विधि
स्वयं से शुरू करो
Eighty Four Thousand Poems ~ 06;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 12;
The Hidden Harmony ~ 09, The Great Nothing ~ 02;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 31;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 11;
The Book of Wisdom Vol 1 ~ 01;
The Book of Wisdom Vol 1 ~ 05
14 आंतरिक केंद्रीकरण
दुखी या सुखी होने का निर्णय
वास्तविक स्रोत की खोज
झंझावात का केंद्र
अनुभव करो--'मैं हूं'
मैं कौन हूं?
स्व-सत्ता के केंद्र की ओर
Unio Mystica Vol 1 ~ 02;
The Book of Wisdom Vol 2 ~ 02;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 33;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 37;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 35;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 35;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 21
15 भीतर देखना
अंतर्दर्शन ध्यान
समग्रता को देखना
ऊर्जा का अंतर्वृत्त
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 21;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 21;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 21;
The Secret of Secrets Vol 1 ~ 07
16 प्रकाश पर ध्यान
स्वर्णिम प्रकाश ध्यान
प्रकाश का हृदय
सूक्ष्म शरीर को देखना
आलोकमयी उपस्थिति
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 09;
The Secret of Secrets Vol 2 ~ 13;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 09;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 23;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 07
17 अंधकार पर ध्यान
आंतरिक अंधकार
आंतरिक अंधकार को बाहर लाओ
The Shadow of the Bamboo ~ 11;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 11;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 11
18 ऊर्जा को ऊर्ध्वगामी करना
जीवन ऊर्जा का आरोहण--1
जीवन ऊर्जा का आरोहण--2
You Ain't Seen Nothin' Yet ~ 07;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 07;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 07
19 ध्वनिरहित नाद का श्रवण
नादब्रह्म ध्यान *
स्त्री-पुरुष जोड़ों के लिए नादब्रह्म
ओम् ॐ
देववाणी *
देववाणी ध्यान के लिए निर्देश
संगीत : एक ध्यान
ध्वनि का केंद्र
ध्वनि का आरंभ और अंत
The Secret of Secrets Vol 1 ~ 13;
editor's words;
editor's words;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 27;
Yoga The Alpha and Omega Vol 03 ~ 06;
editor's words;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 27;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 25;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 27
20 अंतस आकाश को खोज लेना
रिक्त आकाश में प्रवेश करो
सब को समाविष्ट करो
जेट-सेट के लिए एक ध्यान
विषयों की अनुपस्थिति को अनुभव करो
बांस की पोली पोंगरी
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 16;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 09;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 21;
This Is It ~ 19;
Yoga The Alpha and Omega Vol 03 ~ 07;
Tantra The Supreme Understanding ~ 04
21 मृत्यु में प्रवेश
मृत्यु में प्रवेश
मृत्यु का उत्सव मनाना
The Revolution ~ 09;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 13;
Vedanta Seven Steps to Samadhi ~ 15
22 तृतीय नेत्र से देखना
गौरीशंकर ध्यान *
मंडल ध्यान *
साक्षी को खोजना
पंख की भांति छूना
नासाग्र को देखना
The Hidden Splendor ~ 19;
editor's words;
editor's words;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 05;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 23;
The Secret of Secrets Vol 1 ~ 11
23 मात्र बैठना
झा-झेन
झेन की हंसी
The Dhammapada Vol 01 ~ 09;
The Dhammapada Vol 01 ~ 09, Beloved of My Heart ~ 06 + (Instructions currently in use at Osho Commune International, Poona, India);
Roots and Wings ~ 10
24 प्रेम में ऊपर उठना : ध्यान में एक साझेदारी
प्रेम का वर्तुल
संभोग में कंपना
प्रेम का आत्म-वर्तुल
Beyond Enlightenment ~ 16;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 27;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 33;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 1 ~ 33
Part IV. ध्यान में बाधाएं
25 दो कठिनाइयां
अहंकार
वाचाल मन
The Sword and the Lotus ~ 08, The Discipline of Transcendence Vol 4 ~ 03;
The Sword and the Lotus ~ 08, The Inward Revolution ~ 02, A Sudden Clash of Thunder ~ 02
26 झूठी विधियां
ध्यान एकाग्रता नहीं है
ध्यान आत्मपरीक्षण नहीं है
Ancient Music in the Pines ~ 03;
Yoga The Alpha and Omega Vol 06 ~ 06
27 मन की चालबाजियां
अनुभूतियों के द्वारा मत ठगे जाओ
मन पुनः प्रवेश कर सकता है
मन तुम्हें छल सकता है
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 16;
Vigyan Bhairav Tantra Vol 2 ~ 16;
Light on the Path ~ 18
ध्यान तुम्हारा 'मास्टर-कार्ड' है **
The Rebel ~ 17
Part V. ओशो से प्रश्नोत्तर
28
केवल साक्षी ही वास्तव में नृत्य कर सकता है
स्वीकार और साक्षी से मन का अतिक्रमण
शिखर पर खड़ा द्रष्टा
भन को भटकने दो : तुम बस देखो
द्वंद्वों का निर्द्वंद्व साक्षी
सब मार्ग पर्वत शिखर पर मिल जाते हैं
रेचन के बाद सहज मौन और सृजन
संक्रमणकालीन अनिश्चितता और असुरक्षा
होश के क्षणों का संबल
द्रष्टा को स्थूल से सूक्ष्म की ओर गहराओ
साक्षित्व के बीज और अ-मन के फूल
साक्षित्व पर्याप्त है
The Dhammapada Vol 04 ~ 10;
Beyond Psychology ~ 19;
The True Sage ~ 08;
The Tantra Vision Vol 1 ~ 08;
The Osho Upanishad ~ 10;
Ah This ~ 08;
Yoga The Alpha and Omega Vol 03 ~ 04;
Yoga The Alpha and Omega Vol 04 ~ 10;
The Hidden Splendor ~ 11;
The Golden Future ~ 19;
Satyam Shivam Sundram ~ 07;
Satyam Shivam Sundram ~ 22
* "Music tapes are available for these meditations" (footnote in the book)
** This anecdote is not part of TOC of the edition and not part of English book.
edition 2015***
chapter titles
source of the compilation
Part I. ध्यान के विषय में
1 ध्यान क्‍या है? unknown
2 ध्यान के विषय में भ्रांतियां unknown
3 ध्यान के कुछ लाभ
मौन
संवेदनशीलता
प्रेम
करुणा
आनंद
प्रज्ञा
एकाकीपन
निजता
सृजनात्मकता
unknown
4 ध्यान का विज्ञान
प्रयोग
ध्यान और विधियां
प्रयास
सरलता
विधि को समझ लो
सम्यक विधि का बोध
कब विधि को छोड़ना
ध्यान विज्ञान से आगे है
unknown
5 साधकों के लिए सुझाव
तैयारी : भावदशा, जगह, शरीर की मुद्रा, आरामपूर्ण
सक्रियता और रेचन
तीन अनिवार्यताएं
खेलपूर्ण होना
धैर्य
बिना लक्ष्य के हो रहो
आनंद लो
unknown
6 ध्यान में बाधाएं
अहंकार
भन और उसकी चालाकियां
निर्णय
unknown
7 ध्यान संबधी प्रश्न
कया साक्षी कभी जीवन का आनंद लेता है ?
मैं अपने मन के अंधेरे पक्ष को कैसे स्वीकार करूं ?
यदि दर्द हो तो क्या करें ?
मेरा मन दौड़ता है। क्‍या मैं अपना समय व्यर्थ गवां रहा हूं ?
मेरा साक्षीभाव "कभी होता है, कभी नहीं होता है।" इसका क्या अर्थ है ?
क्या आधुनिक यंत्र ध्यान में मदद कर सकते हैं ?
क्‍या यह अनुभव वास्तविक है ?
कार्य करते हुए मैं कैसे सजग रह सकता हूं ?
क्या अदभुत अनुभव पर्याप्त हैं ?
मैं द्रष्टा होना कैसे सीखूं ?
क्या साक्षी होने के अलावा कुछ और भी करना होता है ?
unknown
Part II. ध्यान की विधियां
8 ओशो सक्रिय ध्यान
सक्रिय ध्यान क्यों ?
संगीत का प्रयोग क्यों ?
ओशो डायनैमिक ध्यान
ओशो कुंडलिनी ध्यान
ओशो नादब्रह्म ध्यान
स्त्री-पुरुष जोड़ों के लिए ओशो नादब्रह्म ध्यान
ओशो नटराज ध्यान
अन्य ओशो सक्रिय ध्यान-विधियां
unknown
9 OSHO Talks: शब्दों में अभिव्यक्त मौन
तकनीक का उपयोग
उद्देश्य
कैसे सुनें
unknown
10 ओशो सांध्य-सभा ध्यान unknown
11 ओशो ध्यान थेरेपी
ओशो मिस्टिक रोज़
ओशो नो-माइंड
ओशो बार्न अगेन
ओशो रिमाइंडिंग योरसेल्फ ऑफ दि फॉरगॉटन लैंग्वेज ऑफ टॉकिंग टु योर बॉडी-माइंड
unknown
12 श्वास संबंधी ध्यान-विधियां
ओशो विपस्सना ध्यान
दो श्वासों के मध्य अंतराल को देखना
बाजार में श्वास के अंतराल को देखना
अपने पैरों के तलवों से श्वास लेना
मौन और एकांत में इक्कीस दिवसीय प्रयोग
unknown
13 चक्र संबंधी ध्यान-विधियां
ओशो चक्रा ब्रीदिंग ध्यान
ओशो चक्रा साउंड्स ध्यान
ओशो प्रार्थना ध्यान
ओशो महामुद्रा ध्यान
unknown
14 हृदय संबंधी ध्यान-विधियां
ओशो हृदय ध्यान
बुद्धि से हृदय की ओर
शांत हृदय
unknown
15 केंद्रीकरण की ध्यान-विधियां
ओशो व्हिरलिंग ध्यान
ओशो नो-डाइमेन्शंस ध्यान
स्वयं से पूछो
आनंद के स्रोत की खोज
अनुद्विग्न दने रहो
unknown
16 प्रकाश पर ध्यान
ओशो स्वर्णिम प्रकाश ध्यान
प्रकाशमय हृदय
unknown
17 अंधकार में ध्यान ओशो
अंधकार ध्यान
unknown
18 ध्वनि पर ध्यान
ओशो देववाणी ध्यान
ओशो नादब्रह्म ध्यान (अध्याय 8 देखें)
स्त्री-पुरुष जोडों के लिए ओशो नादब्रह्म ध्यान (अध्याय 8 देखें)
OSHO Talks: (अध्याय 9 देखें)
हृदय से सुनें
ओम् ॐ
ध्वनि का केंद्र
unknown
19 देखने की कला
OSHO Talks: (अध्याय 9 देखें)
बिना शब्दों के देखना
शून्य आंखों से देखना
पहली बार देखना
परावर्तित प्रकाश का अनुभव
unknown
20 स्पर्श संवधि ध्यान-विधियां
पंख की भांति छूना
अपने शरीर को अंदर से स्पर्श करना
स्पर्श को महसूस करना
हृदय से स्पर्श करना
unknown
21 अंतस आकाश की खोज
रिक्त आकाश में प्रवेश करो
सबको समाविष्ट करो
विषयों की अनुपस्थिति को महसूस करो
बांस की पोली पोंगरी
unknown
22 मन को खाली करना
ओशो जिबरिश ध्यान
ओशो नो-माइंड (अध्याय 11 देखें)
मनोदशाओं को बाहर फेंकना
विचारों के प्रवाह को कैसे रोकें
unknown
23 भावनाओं को समझना
अतिशयोक्ति करना
चुनौतियों को स्वीकार करो
दुख, पीड़ा और कष्ट को समझना
पीड़ा को छोड़ दो
unknown
24 तथाता, मृत्यु और मरने की प्रक्रिया
ओशो नटराज ध्यान (अध्याय 8 देखें)
अतीत का विसर्जन
दिन को पूरी तरह से जी लो
मृत्यु का अनुभव
मृत्यु को परम विश्राम की तरह देखना
unknown
25 तृतीय नेत्र के ध्यान
ओशो गौरीशंकर ध्यान
ओशो मंडल ध्यान
साक्षी की खोज
नासाग्र को देखना
unknown
26 मात्र बैठना
झाझेन
बिना किसी कारण के शांत बैठना
बस या ट्रेन की यात्रा में ध्यान
unknown
27 हास्य : एक ध्यान
ओशो लाफ्टर ध्यान
ओशो मिस्टिक रोज़ (अध्याय 11 देखें)
जागना, अंगड़ाई लेना, और हंसना
बस हंसो
जी भर कर हंसो
unknown
28 नींद को ध्यान बनाओ
ध्यानपूर्वक नींद में सरक जाओ
नींद को आते हुए और जाते हुए देखो
पूर्ण सजगता में सोना
अगर आप अनिद्रा से पीड़ित हैं
नींद को भूल जाओ
unknown
29 कुछ भी ध्यान बन सकता है
शारीरिक श्रम या व्यायाम
दौड़ना, जॉगिंग, और तैरना
बस जमीन पर खड़े रहो
जब भोजन करो, तो सिर्फ भोजन करो
धूम्रपान
हर कृत्य को आनंद बना लो
unknown
30 बच्चे और ध्यान
खेल ध्यान
खूब शोर मचाओ, फिर शांत बैठो
जिबरिश से मौन की ओर
पेड़ की तरह महसूस करो और झूमो
आशो नटराज ध्यान (अध्याय 8 देखें)
unknown
*** Chapter titles can be incorrect as images with them are low quality.